अश्वगंधा

अश्वगंधा प्राचीनकाल से अश्वगंधा हमारे जीवन में महतपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह एक औषधीय में उपयोग करने वाला एक पेड़ माना जाता है। ये शरीर को चुस्ती-फुर्ती प्रदान करता है। अश्वगंधा को एक टॉनिक कहा जाता है,क्यूकी यह शारीरिक क्षमता और आरोग्यवृद्धि करता है। अश्वगंधा को अंग्रेजी में भारतीय जिनसेंग (indian ginseng) कहा जाता है। अश्वगंधा के पेड़ और इसके ओषधीय गुणो का वर्णन परम्पिक चीनी चिकित्सा और आयुर्वेद दोनों में किया गया है।अश्वगंधा प्रकृति का दिया हुआ एक ऐसा वरदान है जिसको हम कई प्रकार की बीमारिया एवं सोंदरीय बढ़ाने वाले प्रॉडक्ट बनाने में काम में लिया जाता है। अश्वगंधा को दवाई की तरह और शतावरी की तरह हम उपयोग कर सकता है।

अश्वगंधा को घोड़े की गन्द के नाम से भी जाना जाता है पर ये इसलिए बोला जाता क्यूकी इसके जड़ो मे से गन्द मानो घोड़ो के पसीने जैसी गन्द आती है वेसी। अश्वगंधा की जड़ीबूटी की शुरुआत भारत मे हुई है।अश्वगंधा बिलकुल टमाटर की तरह दिखती है। ये कम और ज्यादा तापमान में दोनों में जीवित रह सकता है। अश्वगंधा हमारे स्वास्थ के लिए बहुत जरूरी है। इसके नियमित रूप से सेवन करने से शरीर की कई बीमारीयों से लड़ता है।

अब आये जानते है अश्वगंधा के बारे में:

१)अश्वगंधा के फायदे(Ashwagandha benefits)

२)अश्वगंधा का सेवन करने के तरीके(how we take Ashwagandha)

३)अश्वगंधा के नुकसान (side effects of Ashwagandha)

  अश्वगंधा

अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha Benefits in Hindi): 

1)अश्वगंधा का लाभ चयापचय मे (Ashwagandha for metabolism):-अश्वगंधा एंटीओक्सीडेंट का एक अच्छा श्रोत है ये चयापचय की प्रक्रिया के दौरान उत्पन मुक्त कण को साफ निस्कृय करने मे बहुत प्रभारी है।

2)थायराइड के लिए अश्वगंधा के फायदे(Ashwagandha for thyroid):-अश्वगंधा थायराइड ग्रनती को उत्तेजित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके प्रभाव पर एक अधयन मे पता चला है की इसकी जड़ो का एक्सट्रेक्ट,अगर एक दैनिक आधार पर लिया जाए तो थायराएड हार्मोन के श्राव मे विरधि होगी।  

3)हाइट बढ़ाने के अश्वगंधा के फायदे(Aswagandha to increase height):- अश्वगंधा कद बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। अगर आपका हाइट समय से पहले बढ़ाना रुक गया हो तो आप अश्वगंधा का प्रयोग कर सकते है। एक ग्लास दूध में 2 चमच्च अश्वगंधा और एक चमच्च चीनी मिलाकर रोज रात को सोने से पहले पिये।

4)कैंसर का एलाज में अश्वगंधा का लाभ(Ashwagandha for cancer):-अश्वगंधा में एंटीजनिक गुण होता है जिससे ये कैंसर कोशिकाओ को नहीं रक्त वाहिकाओ के निर्माण से रोकती है जिससे कैंसर का इलाज करने मे मदद मिलती है। कैंसर रोग को फेलने मे कैंसर सेल का काफी हद तक ज़िम्मेवार होता है जो तेजी से बढ़ती है और अश्वगंधा इन सेल्स को रोकने मे मदद करती है।

5)टेंशन दूर करने में अश्वगंधा का उपयोग(Ashwagandha for tension):- आज कल की व्यस्त जीवन मे अक्सर देखा गया है की हमारी नींद गायब हो जाती है,हम टेंशन मे रहने लगते है। काम काज के प्रैशर से होने वाली अनिंद्रा एवं टेंशन को दूर करने के लिए अश्वगंधा बहुत ही साहयक माना गया है,इसके चूर्ण या कैप्सुल लेने से ऐसे ऊर्जा का निर्माण हमारे मस्तिस्क मे होता है जो हमे जल्दी सोने मे मदद करती है।

6)सेक्स पावर बढ़ाने के लिए अश्वगंधा(Ashwagandha to increase sex power):-अश्वगंधा के सेवन से सेक्स पावर बढ़ती है वीर्य की गुणवत्ता बढ़ती है और वीर्य ज्यादा मात्र मे बनता है साथ ही आप अगर संभोग के दोरान जल्दी थक जाते है तो अश्वगंधा एक प्रभावसाली ओषधि है।  

7)इन्फ़ैकशन दूर करने के लिए अश्वगंधा(Ashwagandha for infection):- अश्वगंधा पुरुषो के लिए तो लाभदायक होता ही है साथ ही महिलाओ के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। इसके पोधों के जड़ो में एंटीबाक्टेरियाल और एंटीफ़ंगल होता है जिससे ज़्यादातर इन्फ़ैकशन को ख़तम करने मे असरदर माना जाता है।महिलाओ मे इन्फ़ैकशन होना आम बात है। गर्भासय के सूजन को भी कम करने में ये आयुर्वेद हेर्ब माना जाता है। जिन महिलाओ की योनि में से सफ़ेद चिपचिपा प्रदार्थ निकलता है उन्हे भी अश्वगंधा खाने से बहुत फाइदा मिलता है।

8)त्वचा की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अश्वगंधा(Ashwagandha for skin problem):-त्वचा को युवा रखने के लिए अश्वगंधा का उपयोग किया जाता है। ये केराटोसिस(keratosis)के इलाज के लिए उपयोगी है।अश्वगंधा मे उच्च श्रेणी के एंटीओक्सीडेंट होते है जो झुरियों,काले धबे जैसे उम्र बढ्ने के संकेतों से लड़ने मे सहायक है। इसमे एंटिअजिंग होता है जिससे व्यक्ति जल्दी बूढ़ा नहीं होता है मतलब इसके सेवन से समय से पहले बुढ़ापा नहीं आता है।

9) मोतियाबिंद से लारने के अश्वगंधा का उपयोग(Ashwagandha for cataract) :-त्यागराजन एक्ट एल द्वारा किए गए सोध के अनुसार यह पता चाला है की अश्वगंधा के एंटीओक्सीडेंट एवं साइटोप्रोटेक्टिव गुण मोतियाबिंद रोग से लारने के लिए अच्छे है।

10)बालो की समस्या के लिए अश्वगंधा का उपयोग(Ashwagandha for hair problem):-अश्वगंधा बॉडी मे कोर्ट्टिसोल के स्तर केओ केएएम केआरकेई बालो केई गिरने केओ रोकता है। अश्वगंधा बालो मे मेलेनिन से होने वाली हानी को रोकता है एयूआर एसएएमएवाई से पहले बालो को सफ़ेद होने से रोक्ता है। अश्वगंधा में टाइयरोसिन है जो एक अमीनो एसिड है जो बॉडी में वाले एसएएमएएसएचवाईए को रोक्ता है।

11)मांसपेशियों की शक्ति में सुधार लाने एवं प्रतिरक्षा प्रणाली मे लाभ के लिए अश्वगंधा(to increase muscular strength and immune system):-अश्वगंधा हमारे शरीर के निचले हीसो की मांसपेसियों की शक्ति मे सुधार लाने और कमजोरी दुर केआरएनई में बहुत उपयोगी है। ये मस्तिष्क और मांसपेसियों के बीआईसीएच समनवय पर सक्र।त्मक प्रभाव डालता है। साथ ही ये प्रतीक्षा प्रणाली मतलब immune system को मजबूत बनाता है।कुछ लोग बड़ी जल्दी बीमार पढ़ जाते है उन्हे कुछ न कुछ छोटी बीमारी होती ही रहती है क्यूकी उनकी रोगप्रतिरोधक अछमता कमजोर होना। उनके लिए तो अश्वगंधा एक बहुत ही अचूक दावा के जैसे काम करती है  साथ ही अगर आपको जोरों का दर्द या घाव या चोट लाग्ने पर भी ये रामबाण इलाज माना जाता है।

12)मधुमेह का इलाज है अश्वगंधा(to control diabetis):-लंबे समय से हमारे आयुर्वेद चिकित्सक अश्वगंधा को मधुमेह के लिए इस्तमाल करते है। मधुमेह के उपचार में अश्वगंधा के उपयोग पर अनुसंधान ने सकरात्मक परिणाम का संकेत दिया है। इसके प्रयोग से ये पता चला है की अगर हम अश्वगंधा चार सप्ताह की अवधि के लिए ले तो तब उपवास और दोपहर के खाने के बाद रक्त शर्करा के स्तर में काफी कमी आती है।

13)अश्वगंधा के हार्ट स्वास्थ के लिए फायदे(Ashwagandha benefits for heart):- अश्वगंधा हमे हाइ कोलेस्ट्रॉल और हाइ बीपी जैसे हर्द्य रोगो से बचाता है।इसके नियमित सेवन से खून के दोरा बेहतर होता है जो खून के थक्के जमने से रोकता है जो कई बार हार्ट अटैक जैसे रोगो से बचाता है।

  अश्वगंधा

अश्वगंधा को सेवन कैसे करे (How to take Ashwagandha in Hindi):

अश्वगंधा प्रकृति का दिया हुआ अमूल्य वरदान है जिसे कई तरह के रोगो के लिए आयुर्वेदिक दवाइयो मे इसतमाल करते है पर इसका सेवन करने का तरीका हुमे मालूम होना चाहिए। बाज़ार में अश्वगंधा के जड़ पाउडर में या तो सूखे रूप में या ताज़ा जड़ के रूप में उपलब्ध होते है आजकल तो पतंजलि के भी अश्वगंधा कैप्सुल या पाउडर बाज़ार में उपलब्ध होते है।

आप 10मिनट के लिए पानी में अश्वगंधा पाउडर को उबालकर अश्वगंधा की चाय बना सकते है पर एक कप पानी में एक चमच से अधिक न दे ।आप सोने से पहले अश्वगंधा जड़ के पाउडर को गरम दूध के एक गिलास के साथ भी ले सकते है। अश्वगंधा शरीर मे आयरन को बढ़ा देता है,हर दिन तीन बार 1-1 gm सेवन करने से शरीर मे खून की मात्रा बढ़ सकती है। इससे हमारे शरीर का पाचनशक्ति अच्छा होता है।

अश्वगंधा के नुकसान (Ashwagandha ke side effects in hindi):

अश्वगंधा तो हमारे शरीर के लिए अच्छा ही होता है पर हर चीज़ को इसतमाल करने से पहले उसके बारे में सब कुछ जान लेना चाहिए की उसके कोई नुकसान तो नहीं है न।

१)अश्वगंधा के ज्यादा सेवन से हमे ज्यादा नींद आती है।

२)जिन लोगो को अल्सर की समस्या हो उन्हे खाली पेट मे या केवल अश्वगंधा का सेवन नहीं खाना चाहिए।

३)अगर कोई और बीमारी हो और उसके साथ अश्वगंधा का सेवन कर रहे हो तो यह दूसरे दवाओ के असर को छिन कर सकती है।

४)अगर किसी व्यक्ति को अश्वगंधा खाने से बुखार हो जाता हो तो उन्हे अश्वगंधा का सेवन नहीं कर्ण चाहिए।

५)गर्भवती महिला को अश्वगंधा का उपयोग नहीं करना चाहिए।

६)अगर कोई महिला अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हो तो उन्हे भी अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए।

में तो यह जरूर कहुगी की इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से जरूर सहला ले,अन्यथा यह आपको नुकसान भी पहुचा सकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here