benefits of musli pak churna in hindi

आप सब ये तो मानते ही होंगे की भारत औषधियों का भंडार है।ऐसी ही एक औषधि है,मूसली पाक । भारत की एक बहुचर्चित औषधि जिसका उपयोग बहुतायत होता है देश से विदेश तक।ये पुरुषो के लिए एक हर्बल टॉनिक है जो मांसपेसियों और सामान्य कामकाज के लिए शरीर के सभी भागो के ल्ये उचित पोशक तत्वो की पूर्ति करता है।

इसका मुख्य कारण इसके प्राकृतिक गुण है। इसका सबसे प्रमुख औषधीय गुण यह है कि यह शारीरिक दुर्बलता को, शारीरिक पतन को बिना किसी भी नुकसान के मिटाता है और शरीर को उन्नत और ताकत प्रदान करता है। पौरुष शक्तियों को बढ़ाने उन्हें शारीरिक क्षमता प्रदान करने में मदद करता है और उन्हें शक्ति प्रदान कर उनकी दुर्बलता को नष्ट करता है। मूसली का मूल रूप से जड़ का इस्तेमाल किया जाता है।

इसका मुख्यता उपयोग यौन सम्बन्धी रोगो के उपचार हेतु किया जाता है। पुरुषो में होने वाले यौन सम्बन्धी विकारो को मूल रूप से नष्ट कर उन्हें स्फूर्ति प्रदान करता है।पुरुषो में होने वाले यौन रोगो के लिए यह एक बेहतरीन टॉनिक है, शीघ्रपतन, वीर्य विकार जैसे रोगो को दूर करने व शुक्राणुओ की वृद्धि में सहायक है।

सफेद मूसली के अत्याधिक लाभ के कारण ही इसका उपयोग वियाग्रा और जिनसेन से भी अधिक किया जाता है। सफेद मूसली एक प्राकृतिक व सुरक्षित कामोद्दीपक औषधि है। इसका प्रयोग विभिन्न शक्तिवर्धक दवाओं में, स्वास्थ्य और सेक्स टॉनिक आदि के निर्माण में होता है, इसमें सेक्स पॉवर बढ़ाने की क्षमता है।

मूसली पाक के लाभ (Benefits of musli pak in hindi)

१) शीघ्रपतन, अल्प शुक्राणुता अथवा इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसे रोगो में लाभप्रद है। यह संभोग के समय मे सुधार लता है और पुरुषो को लंबे समय के लिए बिस्तर में रहने में मदद करता है।
२) मूसली पाक वीर्य उत्पादन की मात्रा के बढ़ाने में भी सहायक है।
३) सफ़ेद मूसली नपुंसकता के उपचार हेतु बेहतरीन औषधि है।
४) मूसली बांझपन और यौन सम्बन्धी रोगो के उपचार करती है।यह हड्डियों की शक्ति को बढाता है।
५) मूसली का प्रयोग मधुमेह जैसे गंभीर रोग के उपचार में भी किया जाता है। सफ़ेद मूसली का सेवन इन्सुलिन की मात्रा को बढ़ाता है।
६) मूसली पाक के सेवन से शरीर को ऊर्जा क्षमता प्रदान करता है।इसका सेवन शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।
७) मूसली का प्रयोग शरीर के वजन को भी बढ़ाता है और शरीरिक दुर्बलता को भी नष्ट करता है।
८) ये खट्टी डकार ,पेट फूलने आदि से राहत दिलाता है।

मूसली पाक से होने वाले नुकसान (side effects of Musli Pak in Hindi)

सफ़ेद मूसली के सेवन के आमतौर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं है। परन्तु हर आयुर्वेदिक औषधि का अत्यधिक सेवन शरीर की कोई न कोई क्षति अवश्य पहुचाता है। इसका अत्यधिक सेवन शरीर के पाचन तंत्र के लिए हानिकारक है। यह पेट सबंधी समस्याओ को बढ़ाता है। मूसली पाक का अत्यधिक सेवन आपके शरीर में कफ दोष तो उत्पन्न कर सकता है और आहार नली मैं स्निग्धता को बढ़ा सकता है।

मूसली पाक हेतु आवश्यक सामग्री व निर्माण विधि (Ingredients of musli pak in Hindi )

मूसली पाक में मुख्य घटक सफेद मूसली है। यह शारीरिक शक्ति सुधारने के अति हितकारी सिद्ध हुई है।
सामग्री – गोखरू ,असवगंधा,सफेद मूसली, काली मूसली, कौंच के बीज, शतावर, ताल मखाना, बीजबंद, जायफल, जावित्री, ईसबगोल, नागकेशर, सोंठ, गोल मिर्च, लौंग, पीपर, कमलगट्टे की गिरी, छुहारे, मुनक्का, चिरोंजी सब 50-50 ग्राम, मिश्री सवा दो किलो, घी 400 ग्राम।

मूसली पाक की सेवन विधि (Dosage of musli pak )

मूसली पाक को 3 से 10 ग्राम तक दिन में दो बार लेना चाहिए । दवा लेना का उचित समय भोजन के 2 से 3 घंटे बाद, दिन में दो बार सुबह और शाम , दूध के साथ इसका प्रयोग करे। आप के स्वास्थ्य अनुकूल मूसली पाक की उचित मात्रा के लिए आप अपने चिकित्सक की सलाह लें।

Image Credit

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here