stri rasayan vati ke benefits and side effects in hindi

स्त्री रसायन वटी महिलाओं की मासिक धर्म संबंधी समस्याओ के लिए सबसे लाभदायक आयुर्वेदिक औषधि है।वो महिलाये जो लंबे समय से मासिक धर्म मे होने वाली परेशानियों से पीड़ित है,इस औषधि के सेवन से उन्हे बहुत लाभ मिलता है। इसमे बहुत तरह की जड़ी बूटिया होती है जो हारमोन को संतुलित रखता है और यौन अंगो को भी सामान्य रूप से काम करने मे मदद करती है। स्त्री रसायन वटी स्त्रियो की समस्या जैसे मासिक धर्म मे अनियमितता,अधिक रक्त स्त्राव,स्वभाव परिवर्तन,सिर दर्द, पेट दर्द,कमर दर्द और बैचनी जैसी समस्याओ से राहत देती है।

स्त्री रसायन वटी को बनाने मे काम आने वाले घटक (Ingredients Of Stri Rasayan Wati)

१) अश्वगंधा (Ashwgandha)
२) आँवला (Amla)
3) सतावरी (Satavari)
४) मुलेठी (Mulethi)
५) नाग केसर (Nag kesar)
६) पीपल (peepal)
७) शिवलिंगी (shivlingi)
८) शिलाजीत (shilajeet)
९) वंश लोचन (Vansh lochan)
१०) गूगूल (Gogol)
११) देवदार (Devdar)
१२) कमल (kamal)
१३) लोह भस्म (Lauh bhasm)
१४) पुत्र जीवक (Putrajivak)

स्त्री रसायन वटी के लाभ,उपयोग,गुण (Benefits Of Stri Rasayan Vati)

दिव्य रसायन वटी स्वास्थ के लिए अच्छी आयुर्वेदिक दवा है। यह हॉरमोन को संतुलित करने मे मदद करती है।यह पाचन को सही करता है,इसके नियमित सेवन से पेट फूलना,गैस,कब्ज,अपच मे काफी लाभ होता है। इसके सेवन से मासिक के समय होने वाले दर्द मे भी राहत मिलती है।

१) लयूकोरिया या सफ़ेद पानी की समस्या मे बहुत लाभकारी है।
२) मुहाँसे,पिंपल जैसी सभी समस्याओं के लिए फायदेमंद है।
३) रक्त की कमी,कमजोरीऔर एनीमिया मे लाभकारी है।
४) हार्मोन को संतुलित करता है।
५) यह मासिक धर्म की कठिनाइयो को भी दूर करता है। यह महिलाओ की समस्याओ जैसे की मासिक का न होना या फिर अत्यधिक होना,मूड मे बदलाव मे फायदा करता है।
६) इसमे इस्तेमाल की हुई प्रकृतिक जड़ी बूटी के कारण ही हार्मोन संतुलित रहता है और यौन अंगो को सामान्य रूप से काम करने मे मदद मिलती है।
७) इसमे मौजूद जड़ी बूटी के कारण ही मासिक के समय होने वाले त्वचा संबंधी रोग मुहाँसेऔर दाग जैसी
समस्या को भी दूर करता है।
८) मासिक धर्म के समय पेट का भारीपन,कब्ज और अम्लता को दूर करता है। स्त्री रसायन वाटी के सेवन से दिमाग भी स्थिर रहता है।
९) स्त्री रसायन वटी मे जितने भी घटक दिये हुए है उनका सीधा प्रभाव स्त्री के स्वास्थ पर पड़ता है।
१०) आयुर्वेद मे स्त्रियो के स्वस्थ के लिए यह औषधि सर्वोपरि है।

स्त्री रसायन वटी सेवन विधि और मात्रा (How To Take Stri Rasayan Vati in hindi)

स्त्री रसायन वटी को प्रतिदिन खाना खाने के बाद २ गोली दिन मे दो बार गुनगुने पानी या दूध के साथ ले।
इस दवा का कोई भी साइड इफैक्ट नहीं है,बस इसकी मात्रा को ध्यान मे रखना चाहिए।

Image Credit

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here