Benefits And Side effects of Dalchini In Hindi

दालचीनी यानि cinnamon हमारी रसोई में पाये जाने वाली सेर्वश्रेस्ठ मसाला में से एक है जिसकी थोड़ी सी मात्र से हमारे खाना का टैस्ट एवं सुगंधित और भी अच्छा हो जाता है। इसका प्रयोग हम गर्ममसला बनाने में भी करते है। पर क्या आप जानते है दालचीनी रसोई तक ही नहीं बल्कि इसका उपयोग हमारे शरीर की बहुत सी बीमारियो से छुटकारा पाने के लिए भी किया जाता है। जैसे की पेट दर्द, मनशिक क्षमता, अपच, वजन बढ़ना एवं मधुमेह आदि में दालचीनी का उपयोग कर सकते है। इसे का लोग चाय में या काफी में भी प्रयोग करते है। ये श्रीलंका एवं भारत में बहुत पाया जाता है। इसकी छाल को जिसे हम cinnamon stick कहते है दवाइयो एवं ओषधीय के रूप में हम करते है। पहले दालचीनी काफी महंगी मिला करती थी। बाज़ार में cinnamon के स्टिक या पाउडर मिलता है।

Contents

दालचीनी में पोषक तत्व (Dalchini ke paushtik fyade in hindi)

दालचीनी में कैल्शियम, एंटीओक्सीडेंट ,पौलिफेनोल, मेंगनीज,आइरन और फ़ाइबर भरपूर मात्र में होते है। और साथ में कार्बोहाइड्रेट,फटती एसिड और अमीनो एसिड होते है जो एक प्राकृतिक स्त्रोत है जो आपके शरीर को स्वास्थ रखने में मदद करता है । इसके आलावा दालचीनी में शक्तिशाली रोगाणुरोधी ,एंटी इन्फ़्लेमेट्रि,संक्रामक विरोधी और एंटी क्लोटिंग गुण होते है। अब आए जाने दालचीनी हमारे स्वास्थ के लिए किस प्रकार फायदेमंद है जिससे हम अपने शरीर में होने वाली बीमारियो से लड़ पाये।

दालचीनी के फायदे इन हिन्दी (Benefits of cinnamon in hindi)

#१. मधुमेह के इलाज के लिए दालचीनी का प्रयोग (Dalchini ke fayde diabetes ke liye in hindi )

दालचीनी के सेवन से मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है। खासकर टाइप २ मधुमेह के रोगी के लिए ये फायदेमंद है। शोधो से भी पता चला की अगर हम दालचीनी का प्रयोग करते है तो रक्त शर्करा का स्तर काफी होता होता है और साथ ही ग्लूकोस का लेवेल कम होने लगता है। इसलीये हमे दालचीनी का प्रयोग खाने में एक चम्मच रोज करना चाहिए जिससे मधुमेह के रोगी का रोग कम होने लगता है। ये भूख को ठीक कर खाना पचाने में मदद करती है जिससे हाइपोथलमस हॉरमोन ठीक होने लगता है। जिससे डाईबीटीज के दुष्प्रभावो को खतरा कम होगा।

Benefits And Side effects of Dalchini In Hindi

#२. मानशिक तनाव एवं दिमाग तेज करने में दालचीनी का फायदे (Dalchini ke fayde dimag ke liye in hindi)

दालचीनी में खास प्रकार की प्रोटीन अच्छे मात्रा में होता है जो की का सेवन करने से मानशिक तनाव दूर किया जा सकता है। बस इसके लिए हमे रोज दालचीनी एक चुटकी लेनी है रात में सोते समय। इससे फायदा जरूर मिलता है साथ ही इसे सूंघने से भी काफी फाइदा मिलता है। इसके रोज सेवन हमारी स्मरण शक्ति भी अच्छी होने लगती है।इतना ही नहीं एक शोध से ये भी पता चला है की अल्जाइमर के रोगी को रोज अगर दालचीनी का जूस दिया जाता है तो मस्तिष्क को संदेश पौंचाने वाले सिस्टम सही तरीके से काम करने लगता है।अगर कोई बच्चा परीक्षा की चिंता और घबराहट से परेशान होते है उन्हे दालचीनी की चाय पिलाने से उनका दिमाग शांत और एकाग्रता बढ्ने लगती है।

Benefits And Side effects of Dalchini In Hindi

#३. त्वचा को सुंदर बनाने के लिए दालचीनी का फायदे (Dalchini ke fayde twacha ke liye in hindi)

बुढ़ापे में त्वचा में झुरिया बढ़ जाति है और त्वचा दिली पड़ने लगती है। इसलिए अगर हम दालचीनी का प्रयोग करे तो ये त्वचा संबंधी रोगो को सही करने कारगर उपाय है बस आपको दालचीनी और लौंग की समान मात्रा को पीसकर मिलाकर रख ले और रोज चोथाई चम्मच दालचीनी को चाटे। त्वचा में खाज और खुजली होने पर दालचीनी पाउडर तथा शहद बराबर मात्रा में लेकर पेस्‍ट बना लें। इस पेस्‍ट को लगाने से त्‍वचा की यह समस्‍या दूर होती है। दालचीनी के पाउडर में थोड़ा सा नीबूं का रस मिलाकर चेहरे पर लगाने से कील मुंहासे दूर होते हैं। दालचीनी को आप पानी में मिलाकर चेहरे पे भी लगा सकती है। त्‍वचा की समस्‍या होने पर भी दालचीनी बहुत फायदेमंद है।

#४. रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में दालचीनी के फायदे (Dalchini ke fayde immunity improve karne ke liye in hindi)

दालचीनी के प्रयोग से हमारे शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। आजकल के खान पान से लोग जल्दी थक जाते है। दालचीनी के सेवन करने से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है। कोई भी काम करने में थकावट नहीं होती है,बस रोज दिन रात को एक ग्लास दूध में पीसी दालचीनी और शहद लेने से शरीर में काम करने की क्षमता बढ्ने लगती है और चेहरे पे थकावट नज़र नहीं आती।

Benefits And Side effects of Dalchini In Hindi

#५. वजन कम करने में दालचीनी के फायदे (Dalchini se vajan kaise ghataye in hindi)

अगर आपका वजन दिन पर दिन बढ़ रहा है,आप अपने बढ़ते वजन से परेशान है तो दालचीनी अजान कम करने में मदद कर सकता है। दालचीनी को शहद और नींबू के साथ मिलाकर सेवन करने से इसका प्रभा और बढ़ जाता है। जेएससे काफी जल्दी वजन बढ्ने से छुट्टी मिल सकती है बस शर्त है आप अपने रोज दिन के आहार और व्यायाम को रोज करे। दालचीनी की चाय आजकल लोग काफी पसंद भी कर रहे और क्यू न करे अगर इससे आपका वजन कम हो तो इसमे कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। बस आपको एक कप गरम पानी करे और एक दालचीनी की स्टिक डालकर उबाले। फिर जब पानी थोड़ा ठंडा होजाए तो १ नींबू उसमे निचोड़ ले और शहद मिलाकर पिये।

#६. गठिया के दर्द में राहत के लिए दालचीनी के फायदे (Dalchini ke fayde Arthritis Pain kaam karne main in hindi)

दालचीनी गठिया रोग में काफी फायदेमंद होता है। दालचीनी में गठिया दर्द से जुड़े साइटोकिन्स को कम करने की क्षमता है। अगर आप रोज सुबह शाम आधा चम्मच दालचीनी और 1 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करे तो एक हफ्ते में आपको काफी आराम मिलने लगेगेगी और 1 महीने के अंदर आप आराम से चल फिर सकेगे।

Benefits And Side effects of Dalchini In Hindi

#७. हृदई की रक्षा के लिए दालचीनी के उपयोग (Dalchini ke fayde dil ke liye in hindi )

दालचीनी में विभिन्न प्रकार के एंटी इंफलमेटरी गुण होते है जो दिल और उसके आसपास की धमनियो को संक्रमण
से बचाने में मदद करता है। आजकल की जीवन शैली में लोग बाहर का खाना या फैटी फूड का सेवन ज्यादा करने लगे है जिससे उनके शरीर में विषाक्त पदार्थ का निर्माण होता है जिससे हृदई रोग बढ़ता है। दालचीनी के प्रयोग से आंतरिक ऊतको में सूजन को कम करने तथा दिल के दौरे की बीमारी के जोखिम को कम करने में मदद करता है। शहद और दालचीनी से कोलेस्ट्रॉल को स्तर को कम किया जा सकता है जिससे हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है। दालचीनी खून के थक्के को भी जमने नहीं देते।

#८. मासीक धर्म नहीं आने पर दालचीनी के फायदे (Benefits of cinnamon on menstrual cycle in hindi )

दालचीनी के सेवन से भी मासिक धर्म ठीक से आने में मदद मिलती है। बस ध्यान रहे गर्भवती महिला इसका सेवन न करे। पिसी हुई दालचीनी एक चम्मच रोज एक बार सुबह पानी के साथ ले। किसी किसी को इससे पेट में भी दर्द होता है तो पेट दर्द होने पर इसमे मूंग की दल के बराबर हिंग मिलाकर खले।बहुत फायदा मिलेगा।

#९. पाचन क्रिया को ठीक करने में दालचीनी का उपयोग (Dalchini ke fayde pet ka paachan ke liye) 

दालचीनी में मेग्नीसियम,फ़ाइबर और कैल्सियम भरपूर मात्र में होते है जो बाइल साल्ट एम गस्ट्रिक जूस के साथ मिलकर पाचन क्रिया मजबूत करता है। दालचीनी में एंटी इंफ़्लामेट्रि गुण होने क वजह से यह पेट के अन्य बीमारी को भी ठीक करता है। अगर दालचीनी को पुदीने के पत्ते के साथ खाया जाए तो यह पाचन में काफी सहयोगी होती है। दालचीनी को पानी में उबालकर शहद के साथ सुबह खाली पेट पीने से काफी आराम मिलता है।

#१०. कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए दालचीनी के फायदे ( Dalchini se cholesterol kaam kare in hindi)

दालचीनी आपके ब्लड से खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काफी कम करने मदद करता है जेएससे हृदई रोग के जोखिम को कम कर सकते है। इसमे मौजूद सक्रिय संघटक कोशिकाओ की चीनी को चयापचय करने की क्षमता यानि योग्यता को २० गुना तक बढ़ा सकता है।आप अपने कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखने के लिए रोज दिन में एक बार दालचीनी को अपने कॉफी या चाय में मिलाकर सेवन करे आराम मिलेगा।

#११. सर्दी और जुकाम (श्र्व्सन प्रणाली) के लिए दालचीनी (Dalchini se sardi jukam kam kare) 

दालचीनी सर्दी और फ्लू को ठीक करने बहुत उपयोगी है। गल शोथ से छुटकारा पाने के लिए पिसी हुई दालचीनी को ग्रीन टी के साथ या सेब के सिरके के साथ पीने से काफी आराम मिलता है। सर्दी-जुकाम होने पर दालचीनी का प्रयोग करना चाहिए। एक चम्मच शहद में थोड़ा सा दालचीनी पाउडर मिलाकर सुबह-शाम लेने से खांसी-जुकाम में आराम मिलता है। हल्के गर्म पानी में एक चुटकी दालचीनी पाउडर तथा एक चुटकी पिसी काली मिर्च शहद में मिलाकर पीने से जुकाम तथा गले की खराश दूर होती है। इसके पाउडर को पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बनाकर माथे पर लगाने से ठंडी हवा से होने वाले सिर दर्द में आराम मिलता है। इसे रोज दिन में दो बार ले फायदा मिलेगा।

#१२. कैंसर के इलाज में दालचीनी के फायदे (Benefits of cinnamon for cancer treatment in hindi )

कैंसर जैसे घातक रोग के लिए भी दालचीनी फायदेमंद है। जापान और आस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों के अनुसार आमाषय और बोन कैंसर की बढ़़ी हुई स्थिति को दो प्रकार की चीजों को मिलाकर उपयोग करने से कैंसर को काबू किया जा सकता है,वह है – दालचीनी और शहद । ये शरीर के कोशिकाओ के वृद्धि को कम करने में , और रोजाना इसके सेवन से कैंसर को रोकने में मदद करती है। दालचीनी ल्यूकेमिया और लिंफोमा कैंसर कोशिकाओ की वृद्धि दर को कम करने में काफी मदद कहै।रता है। कैंसर के रोगियों को एक बड़ा चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी के पावडर को गरम पानी के साथ एक महीने तक लेने से आराम मिलता है।

#१३. कोलन में सुधार के लिए दालचीनी के लाभ (Benefits of cinnamon for improving colon health in hindi)

दालचीनी में कैल्शियम,फ़ाइबर,मेंगनीज का बहुत अच्छा स्रोत है जिससे बृहदांत्र की कार्यक्षमता में अच्छा सुधार ला सकता है और पित्त और लवण को शरीर से निकालने में मदद करता है। पित्त जब निकलजता है तो फ़ाइबर कोलन कोशिकाओ की क्षति को रोकता है जिससे पेट के कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है। इन सब को रोकने के लिए दालचीनी बहुत आवश्यक है। इससे डाइरिया और कब्ज से की परेशानी से छुटकारा पाने में बहुत मदद मिलती है। दालचीनी,सौंठ,और चोटी इलाइचि को समान मात्र में मिलाकर पीस ले फिर रोज दिन चोथाई चम्मच दिन में दो बार ले।

#१४. रक्त परिसंचरण में लाभदायक है दालचीनी (Dalchini is beneficial in blood circulation in hindi)

दालचीनी रक्त परिसंचरण को ठीक करता हाई। इसमे कोमरीन नमक गुन होता है जो रक्त को पतला होने से बचाता है। और पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण को सुधरता है। बस ध्यान रखे दालचीनी का सेवन कम ही करना सही माना जाता है क्योंकि कोमोरिन लिवर की कार्यशीलता पे प्रभाव डाल सकता है। इसलिए रोज दालचीनी की चाय पिये काफी फायदा मिलेगा।

#१५. बहरापन दूर करे दालचीनी के प्रयोग से (Reduce Deafness by using cinnamon)

शहद और दालचीनी पाउडर को बराबर मात्रा में मिलाकर एक-एक चम्‍मच सुबह और रात को लेने से सुनने की शक्ति बढ़ती है। कान से कम सुनाई देने की समस्‍या होने पर कान में दालचीनी के तेल की कुछ बूंदें डालने से आराम मिलता है।

#१६. चकतेदार अध: पतन के उपचार के लिए दालचीनी के ओषधीय उपयोग (Medical use of cinnamon for spindle degeneration)

दालचीनी में एंटी इन्फ़्लेमेटरी गुण बहुत ही शक्तिशाली होते है जो दिमाग के आंतरिक ऊतको को निरंतर कर सूजन को कम करने में मदद करता है। दालचीनी से कई प्रकार नुरोलोजिकल विकार से शरीर को सुरक्षा भी मिलती है।

#१७. दर्दनाशक होता है दालचीनी के फायदे (Dard kam karne main asardar) 

दालचीनी से किसी भी दर्द,या सूजन में काफी आराम मिलता है। आधा चम्मच दालचीनी में दो चम्मच शहद और पानी मिलाकर मालिश करे। पैक भी तैयार कर सकते है। एक कप गरम पानी में १/४ चम्मच दालचीनी दो चम्मच शहद मिलाकर रोज़ पीने से भी किसी भी प्रकार के दर्द,या काही भी दर्द हो,सुजन हो,सर में दर्द,पेट दर्द सब में फायदेमंद है।

#१८. दाँतो के रोग में दालचीनी के फायदे (Dalchini ke fayde danto ke liye) 

दालचीनी में बहुत सारे गुण होते है जो दाँतो को अच्छा करने में आपकी मदद कर सकते है। रोज़ दालचीनी से दांतों की मंजन करे,आप इसे और दूसरे मंजन के साथ मिलाकर भी प्रयोग कर सकते है। साथ ही दालचीनी को पानी में उबालकर कुले करके दाँतो के अन्य रोगो से भी आराम दिलाता है।आप इसे mouth freshners की तरह भी प्रयोग कर सकते है।

#१९. पेशाब के परेशानी को कम करने में दालचीनी के फायदे (Dalchini ke fayde urinary tract infection ke liye in hindi)

दालचीनी में एंटी फंगल गुण होते है जो मूत्राशय को साफ करने में मदद करता है। बस आधा चम्मच दालचीनी के पानी से रोजाना ३ बार फांक ले। ये पेशाब की अन्य परेशानी से लड़ने में काफी मदद करता है और आराम दिलाता है।ये दाद,खाज,खुजली से भी राहत दिलाने में काफी मदद करता है।

#२०. ज्वर या बुखार से आराम दिलाने में मदद करता है दालचीनी (Dalchini ke fayde bhukhaar kaam karne ke liye in hindi)

दालचीनी में संक्रामक रोग से बचाव करने में काफी मदद करता है। इससे आप किसी भी प्रकार के बुखार या ज्वर से बचने में मदद करता है।इसके लिए आपको २ कप पानी में चाय की पत्तियों को उबालकर १/४ चम्मच दालचीनी डालकर उबाले,फिर इसे छान कर पिये। इससे आप रोज भी पी सकते है क्योंकि ये सभी परेशानियों से दूर रखने में मदद करता है।

दालचीनी के कई फायदे है जो आपके स्वास्थ के लिए बहुत फायदेमंद है। पर किसी चीज को आप जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करेगे तो कुछ तो नुकसान होता ही है। तो आएए चलिये जाने इसके नुकसान

दालचीनी के नुकसान इन हिन्दी (Dalchini ke side effects in hindi)

दालचीनी के सेवन से गर्भवती महिला और अगर कोई महिला स्तनपान करा रही है तो इन महिलाओ को सेवन करने से पहले सावधानी बरतनी चाहिए। अगर आप दालचीनी का उपयोग ज्यादा मात्रा में कर रही है तो यह जहरीला हो सकता है। और आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है ।

दालचीनी से गर्भवती महिला को समय से पहले दर्द उतपन हो सकता है। या फिर गर्भाशय को भी छोटा कर सकता है।
इसके अधिक सेवन से कई बार बहुत से लोगो को दालचीनी से एलेर्जी भी हो सकती है। अगर उन्हे पहले नहीं भी हुआ है हो तो ज्यादा नहीं सेवन करना चाहिए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here