Benefits and side effects Of Divya Khadirarishta in hindi

खदिरारिष्ट त्वचा संबंधी रोगो की बहुत ही अच्छी दवा है। इस औषधि को बनाने मे खैरसार और देवदार की लकड़ी को इस्तेमाल किया जाता है,इसके अलावा लौंग,इलायची,जायफल,दालचीनी,तेजपत्ता, पीपल,त्रिफला,हल्दी,बावची,का भी उपयोग किया जाता है।

इस दवा को बनाने मे शक्कर को भी डाला जाता है,आयुर्वेद मे शक्कर का उपयोग ही ज्यादा किया गया है,शक्कर गन्ने को क्रिस्टलिकरण करके बहुत धीमे माध्यम से बनाया जाता है। खदिरारिष्ट का उपयोग सभी तरह के त्वचा रोगो,पेट की सूजन, ट्यूमर,पेट मे कीड़े हो जाने पर और एनीमिया मे किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: २० हैल्थ टिप्स फॉर मेन (Health Tips for Men Body in Hindi)

खदिरारिस्ट की सामाग्री (Ingredients of Khadiraristra in Hindi)

  • खदिरा (Khadira)
  • बकुची (Bakuchi)
  • देवदूरी(Devadaru)
  • दर्वी (Darvi)
  • हरीतकी (Haritaki)
  • अमला (Amalaki Vibhitaki se)
  • पानी (Water for decoction)
  • शहद (Makshika or Honey)
  • धातकी (Dhataki)
  • शर्करा(Sharkara)
  • नागकेशरा (Nagakeshara)
  • कंकोला (Kankola)
  • जटिफला (Jatiphala)
  • इलाइचि (Cardamom)
  • लोंग (Clove)
  • दालचीनी (Cinnamon)
  • पीपल (Pippali or Long Pepper)
  • पत्र (Patra)

दिव्य खदिरारिष्ट के फायदे इन हिन्दी (Benefits of Diyva Khadirarista in Hindi)

१) खदिरारिष्ट के नियमित प्रयोग से शरीर के विषैले पदार्थ को बाहर निकलने मे मदद मिलती है।
२) यह आंतों को मजबूत करता है।
३) इसके सेवन से दाद,खाज,खुजली,घाव,रक्त विकार, सभी ठीक हो जाते है।
४) खदिरारिष्ट सर्दी,कफ,साँस,की बीमारियों मे भी फायदेमंद है।
५) हृदय की धड़कन बदने को ठीक करने मे भी यह मदद करती है।
६) दिव्य खदिररिष्ट कुष्ठ रोग मे भी उपयोगी है। इसके उपयोग से लाल और काले कोढ़ के चकते भी ठीक हो जाते है।
७) खदिररिष्ट के नियमित इस्तेमाल से चेहरे पर होने वाले कील मुँहासे और उनके दाग भी हट जाते है,और चेहरे पर चमक आ जाती है।
८) एक्जिमा जैसे रोगो को भी ठीक करने मे इसका इस्तेमाल किया जाता है।
९) डायबिटीज, मोटापा और एनेमिया जैसे रोगो के लिए भी यह बहुत अच्छी दवा है।
१०) अस्थमा जैसे रोगो के लिए भी यह औषधि बहुत ही कारगर है।

इसे भी पढ़ें: मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

दिव्य खदिरारिष्ट उपयोग करने का तरीका (how to take divya khadiraristra in Hindi)

एक दिन मे दो बार दोपहर और रात के खाने के बाद ४ चम्मच खदिरारिष्ट और ४ चम्मच पानी बराबर मात्रा मे लेने से इन सभी बीमारियो मे फायदा मिलता है। इस दावा का कोई साइड इफैक्ट नहीं है, बस इसकी मात्र को ध्यान मे रखकर ही सेवन करे।

खदिरारिस्ट के दुष्प्रभाव (Side effects of divya khadiraristra in Hindi)

रिसर्च के आधार पर इसके कोई सीडीफ़्फ़ेक्ट्स नहीं पर कोई भी चीज अधिक मात्र में लेने से नुकसान तो करेगी ही। इसलिए आवश्यक है की इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य ले।

इसे भी पढ़ें:हार्ट अटैक के लक्षण एवं हार्ट अटैक से बचने के उपाय इन हिन्दी ( Heart attack ke karan aur upay in hindi)

Image Credit

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here