Benefits-side-effects-recipe-of-oats in hindi

ओट्स (Oats In Hindi) जौ से तैयार किया हुआ एक ऐसा दलीया है जो आसानी से पच जाता है,इसमे बहुत अधिक मात्रा मे फाइबर और कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते है। इसमे जो फाइबर पाया जाता है,वह बहुत ही आसानी से जल मे घुल जाता है। बहुत पहले जब इंसान अपने हैल्थ के लिए बहुत जागरूक नहीं थे तब ओट्स की कच्ची फसलों को जानवर ही खा लेते थे। बाद मे इसे काफी हद तक प्रोसेसस्ड करके इन्सानो के खाने लायक बनाया गया,पिछले कुछ सालो मे यह इन्सानो के खाने वाला बहुत की लोकप्रिय फूड हो गया है। मार्केट मे बहुत तरह के ओट्स मोजूद है।

बाज़ार मे मिलने वाले ओट्स के पैकेट मे चीनी की मात्रा मिली होती है, इसलिए इसे लेते समय हमे ध्यान रखना चाहिए, ओट्स मे गुलेटिन नहीं होता है अगर आप गुलेटिन फ्री भोजन खाने के आदि है तो हमारे लिए ओट्स से बेहतर कोई विकल्प हो ही नहीं सकता।

ओट्स एक ऐसा अनाज है जो अपने बीजो के लिए ही जाना जाता है यह जौ से बनता है। ओट्स मे फॉलिक एसिड पाया जाता है,जो गर्भवती महिलाओ के लिए बहुत फायदेमंद है। बढ़ते उम्र के बच्चों के लिए भी यह बहुत उपयोगी है क्योकि यह फाइबर और कॉम्प्लेक्स कार्बोहायड्रेड का बेहतर स्त्रोत है।

ओट्स मे कैल्सियम,जिंक,मेग्नेशियम,विटामिन बी, विटामिन ई और आयरन प्रचूर मात्रा मे पाया जाता है। मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्ति के लिए भी यह फायदेमंद है, दिल से संबन्धित बीमारियों के लिए भी ओट्स फायदेमंद है।
हमारे शरीर मे अच्छा कोलेस्ट्रॉल LDL की मात्रा को बढ़ाकर हमारे दिल को सुरक्षित रखता है। यह हमारी त्वचा की भी रक्षा करता है।

यह भी पढ़े : What is Quinoa in hindi?

ओट्स के फायदे (Benefits Of Oats In Hindi)

१) ओट्स के फायदे वज़न घटाने मे (Oats For Weight Loss)

ओट्स मे बहुत अधिक मात्रा मे प्रोटीन होता है, जिसके उपयोग से भूख कम लगती है,वो लोग जिनके पास समय का अभाव है या फिर जो लोग जिम या वॉक नहीं कर पाते है,वो लोग ओट्स खाकर अपना वजन बहुत जल्दी आसानी से कम कर सकते है। ओट्स मे इंसोल्यूब्ल और सोल्यूबल फाइबर होता है,जो चर्बी को खत्म करने के लिए काफी अच्छा होता है।

 

Oats in hindi

२) कोलेस्ट्रॉल को कम करे (Oats For Controlling Cholesterol)

अगर हम तीन (३) महीने तक लगातार ओट्स का सेवन करते है तो हमारे शरीर मे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को ५% तक कम किया जा सकता है,यह हमारे शरीर के खराब कोलेस्ट्रॉल HDL को जमा नहीं होने देता और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढाता है। ओट्स मे मौजूद बीटा ग्लूकोस नामक एक चिपचिपा तत्व हमारे आंत की सफाई करता है और कब्ज की समस्या को दूर करता है।

३) हृदय के लिए (Oats Is Good For Heart)

ओट्स मे बहुत अधिक मात्र मे फाइबर होने के कारण यह हृदय के लिए बहुत फायदेमंद है, इसमे अन्य पोषक तत्वो के साथ साथ विटामिन ई होता है जो हमारे दिल को स्वस्थ रखता है।

face-pack-oats in hindi

४) उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है (Oats For Controlling High Blood Pressure)

ओट्स खाने से उच्च रक्तचाप नियंत्रित रहता है,यह सिर्फ उच्च रक्तचाप को ही कम नहीं करता बल्कि हार्ट की बीमारियो के खतरे को 22% तक कम करता है। हाइ ब्लड प्रेसर वाले के लिए ओर्गेनिक ओट्स खाना बहुत फायदेमंद है। ओट मिल खाने से डायस्टोलिक ब्लड प्रेसर ५.५ प्वोइंट तक कम हो जाता है और सिस्टोलिक ब्लड प्रेसर ७.५ प्वोइंट कम हो जाता है। यह उच्च रक्त चाप वालों के लिए रामबाण होता है।

५) मधुमेह के लिए (Oats For Diabetes)

ओट्स खाना टाइप-२ डायबिटीज के रोगियो के लिए बहुत फायदेमंद है। ओट्स मे ग्लायसेमिक कम मात्रा मे पाया जाता है, ओट्स मे प्रचुर मात्रा मे फाइबर होता है जिस कारण से यह ब्लड शुगर लेवल को रेगुलेट करने मे मदद करता है यह पचने मे आसान होता है, ओट्स मे बीटा-ग्लूकोन डायबिटीज़ के मरीजो मे ब्लड शुगर की सांद्रता को कम करता है, बाज़ार मे बहुत प्रकार के ओट्स उपलब्ध है, बहुत मे शुगर की मात्रा अधिक होती है बहुत मे कम। इस बात को ध्यान मे रखकर ही डायबिटीज़ के मरीज को ओट्स लेना चाहिए।

६) त्वचा के लिए (Oats For Good Skin)

ओट्स का पेस्ट त्वचा के लिए बहुत ही उपयोगी है, ओट्स को दही मे मिलाकर फ़ेस पेक बनाकर लगाने से मृत त्वचा भी सही हो जाती है। यह आपकी त्वचा को स्वस्थ और कोमल बनाकर निखार लाती है। रूखी त्वचा या एक्जिमा जैसी तकलीफ मे भी ओट्स का पैक बहुत फायदेमंद है। ओट्स को दूध मे मिलाकर स्क्रब बना ले और उसमे थोड़ा सा शहद मिलाकर लगाने से हमारी त्वचा का रूखापन दूर हो जाता है। अगर त्वचा मे किसी प्रकार की जलन हो रही हो तो इस पैक मे गुलाबजल की भी कुछ बूंदे मिलाकर लगाने से बहुत राहत मिलती है और हमारी त्वचा निखरी, कोमल और सुंदर लगने लगती है।

face-pack-oats in hindi

७) रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे (Oats helps To Build immunity)

ओट्स को अगर हम अपनी रोज की डाइट बना ले तो यह हमारे शरीर किरोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने मे मदद करता है। ओट्स मे बीटा-ग्लूकोन होता है जो हमारी इम्यूनिटी के लेवेल को बढ़ाने मे मदद करता है। हमारे शरीर मे अधिकांश कोशिकाएँ विशेष रिसेप्टर का काम करती है जो बीटा ग्लूकोन को अवशोषित कर लेती है और व्हाइट ब्लड सेल को शरीर से बाहर कर हमे बहुत सी बीमारियों से बचाती है। ओट्स मे मौजूद बीटा ग्लूकोन घाव भरने मे मदद करता है और इन्फ़ैकशन से भी लड़ने मे मदद करता है। ओट्स मे अधिक मात्रा मे जिंक और सेलेनियम पाया जाता है और यह एंटी बायोटिक्स के असर को भी बेहतर बनाता है।

८) ओट्स का लाभ आंत के लिए (Oats Good For Intestine)

ओट्स मे फाइबर होने के कारण यह आंत और मलाशय के लिए बहुत फायदेमंद है। जिन लोगो को कोन्स्ट्रेपेसन की शिकायत है उन लोगो को रोज़ ओट्स का सेवन करना चाहिए, ओट्स के सेवन से कब्ज जैसी परेशानियों से निजात मिल जाती है। जिन लोगो को अलसेरेटिव कोलाइटिस की बीमारी है उनको भी बहुत फायदा होता है।

Oats in hindi

९) कैंसर मे ओट्स के लाभ (Useful In Cancer)

कैंसर से बचाव के लिए ओट्स का प्रयोग किया जा सकता है, इसके प्रयोग से हृदय रोग होने का खतरा कम हो जाता है क्योकि ओट्स खाने से हृदय की धमनियो मे वसा को नहीं जमने देता है। ओट्स मे एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो कैंसर जैसी बीमारियो से भी लड़ने मे सहायक होता है। ओट्स मे मौजूद फाइबर रेक्टल और कोलोन कैंसर से हमारी सुरक्षा करता है। ओट्स पर किए गए कुछ रिसर्च के कारण यह पता लगा है की हमेशा अच्छी क्वालिटी के ओट्स का ही चुनाव करना चाहिए और इसे कैंसर के बचाव के लिए भी उपयोगी माना गया है। ओट्स मे एवेन्थ्रमाइड नाम का एक विशेष योगिक पाया जाता है जो कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं को बढ्ने से रोकता है।

१०) तनाव मे (Oats Helps in Reducing Stress In Hindi)

इसमे भरपूर मात्रा मे फाइबर और मेग्नेसियम पाया जाता है जो की हमारे दिमाग मे सेरोटोनिन की मात्रा को बढाता है,जिससे मस्तिष्क शांत रहता है और नींद भी अच्छी आती है। इससे हमारी मनोदशा भी अच्छी रहती है। ओट्स मे ब्लू बेरी मिलाकर भी खा सकते है क्योकि ब्लू बेरी मे एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी पाया जाता है,यह दोनों ही तनाव से लड़ने मे हमारी मदद करते है। ओट्स के लगातार सेवन करने से अस्थमा जैसी बीमारियो से भी बच्चो को बचाया जा सकता है।

हमने ओट्स के फायदे तो जान लिए लेकिन इसे कैसे बनाया जाय की यह स्वादिष्ट लगे। यह खाने मे जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही पोष्टिक भी। ओट्स मे इतनी पोष्टिकता है की इसे हमे अपने रोज़ के नासते मे शामिल करना चाहिए। हमे ओट्स बनाने मे सिर्फ 20-25 मिनट का समय लगता है।

मसाला ओट्स की रैसिपि (Recipe Of Masala/Upma Oats In Hindi)

masala-upma-oats in hindi

सामाग्री (Ingredients For Masala/Upma Oats Recipe In Hindi)

  • ओट्स – १ कटोरी
  • सूजी – १/२ कटोरी
  • उड़द दाल – १ चम्मच
  • राई – १ चम्मच
  • करी पत्ता -१ चम्मच
  • तैल -१ चम्मच
  • प्याज -१ चम्मच बारीक कटे हुए
  • टमाटर -१ चम्मच बारीक कटे हुए
  • शिमला मिर्च – १ चम्मच बारीक कटे हुए
  • अदरक,हरी मिर्च – १ चम्मच बारीक कटे हुए
  • नमक स्वादानुसार
  • नींबू का रस
  • गाजर, मटर,बीन्स, गोभी – अपनी पसंद अनुसार सब्जियाँ मिक्स, लगभग 1 कटोरी

मसाला ओट्स की विधि (How To Make Masala Oats In Hindi)

  • सबसे पहले एक कड़ाही लेंगे और उसमे ओट्स और सूजी डालकर उसे धीमी आंच पर भून लेंगे
  • इसे एक प्लेट मे ठंडा होने क लिए रख देंगे
  • इसके बाद एक कड़ाही मे तेल डालेंगे और उसमे राई,अदरक,हरी मिर्च और करी पता डालेंगे
  • अब उसके बाद उसमे उरद दाल डालकर भून लेंगे
  • इसके बाद इसमे प्याज,टमाटर,शिमला मिर्च डालकर भून लेंगे
  • अब एक दूसरे बर्तन मे पानी गरम करके उसमे गाजर, मटर,बीन्स, गोभी को हल्का मुलायम होने तक उबाल ले इसके बाद सब्जियों को पानी से निकाल ले
  • और प्याज मे मिला दे अब इसमे तीन कप पानी डाले और नमक डाल ले और फिर सूजी और ओट्स डालकर मिला ले
  • अब इसमे नींबू का रस डाल कर मिला दे और धीरे धीरे मिला लेंगे २-३ मिनट पकाने के बाद हरा धनिया डालकर सर्व करेंगे

यह भी पढ़े : पोहा रेसिपी इन हिंदी – Tasty Poha Recipe in Hindi

ओट्स के नुकसान (Side Effects Of Oats In Hindi)

ओट्स के फायदे और बनाने की विधि जानने के बाद अब हमे इससे होनेवाले नुकसान के बारे मे भी मालूम होना चाहिए।ऐसे तो ओट्स के कोई नुकसान नहीं है लेकिन कहा जाता है न कोई भी चीज का सेवन एक लिमिट के अंतर्गत होना चाहिए तभी उसका फाइदा होता है नहीं तो वो नुकसान भी कर सकता है। ओट्स मे गुलेटिन की मात्रा नहीं पायी जाती है, ओट्स भी खेतो मे गेहूं और जौ के साथ ही होता है,तो इसमे गुलेटिन की होने के कुछ चांसेज हो सकते है,गुलेटिन युक्त ओट्स खाने से डायरिया, पीठ दर्द जैसी समस्या हो सकती है।

कम पोषक तत्व युक्त ओट्स अधिक खाने से कमजोरी, नाखून कम बढ़ना, नींद की समस्या हो सकती है।ओट्स की कुछ तरह की क्वालिटी मे शुगर मिला होने के कारण इसके सेवन से डायबिटीज़ बढ्ने का डर बना रहता है। ओट्स खाने के बहुत ज्यादा नुकसान नहीं है यह बहुत ही फायदेमंद है, बस हमे इसकी मात्रा को ध्यान मे रखना चाहिए। यह हमारे शरीर के हर पार्ट की रक्षा करता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here