benefits and sideeffects of Unwanted kit tablet in hindi

अनवांटेड किट 200mg टैब्लेट का प्रयोग महिलाओं के अबॉरशन के लिए किया जाता है, जो छ से सात सप्ताह या ५० दिनों से गर्भवती हैं। इसका प्रयोग मिसोप्रोस्टोल को मिलाने में किया जाता है। अनवांटेड किट 200 एमजी को RU -486 के नाम से भी जाना जाता है। अनवांटेड किट 200 एमजी टैब्लेट एक सिंथेटिक स्टेरॉइड है जो हार्मोन के साथ मिलकर कर काम करता है।

अनवांटेड किट 200 एमजी का प्रयोग करने पर आपको कुछ साइड इफेक्ट्स भी महसूस हो सकते हैं। इन एफफ़ेक्ट्स में योनि से खून बहना है, कमजोरी थकान, बुखार, घावों, पेशाब करने में परेशानी, सांस लेने में कठिनाई, दस्त लगना ,तनाव, उल्टी, हल्का सिरदर्द, पेट में दर्द बढ़ने, शांति, झटके, नींद न आना, मतली, पसीना, खाँसी आना, अम्लता और गैस शामिल हैं। अनवांटेड किट 200 mg लेने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह   लेनी चाहिए और उन्हे बताएं आपको क्या परेशानी हो रही है जैसे की-

इसे भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी सिम्प्टमस इन हिन्दी (Pregnancy Symptoms In Hindi)

अन्वान्टिड-किट के घटक (Ingredients of Unwanted kit in Hindi) 

  1. माईज़ोप्रोस्टोल

2. मीफेप्रिस्टोन

यह दवाई सिर्फ abortion कराने के लिए प्रयोग की जाती है। यह एक ऐसा ड्रग है जो केवल डॉक्टर के prescription पर ही मिलती है।

कब अनवांटेड किट टैबलेट निर्धारित होता है (When is Unwanted kit tablet prescribed)

#1. गर्भधारण को समाप्त 

अनवांटेड किट 200 mg टैब्लेट का उपयोग गर्भधारण को समाप्त करने में किया जाता है जो दस सप्ताह से कम उम्र के हैं। गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए भी और श्रम में शामिल करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

#2. कुशिंग सिंड्रोम

अनवांटेड किट 200 मिलीग्राम टैब्लेट का उपयोग कुशिंग के सिंड्रोम वाले टाइप 2 डायबिटीज मेल्लिटस या ग्लूकोज  के रक्त शर्करा के स्तर के मेनेज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इसे भी पढ़ें:  प्रेग्नेंसी चेक करने के घरेलू उपाय, प्रेग्नेंसी टेस्ट कब और कैसे करे बिना किट के घर मे इन हिन्दी

सेवन विधि और मात्रा (Dosage of Unwanted kit in hindi)

  • इसे प्रेग्नंसी की पुष्टि करने के बाद ही डॉक्टर की सलाह से ही लें।
  • प्रेग्नंसी की कन्फ़र्म करने के लिए पहले pelvic ultrasound scan कराएं। इससे यह पता चलेगा की गर्भ कितने दिन का है वो कन्फ़र्म कर लेंगे।
  • यह गोलियां गर्भपात कराने में 93% तक कारगर हैं। इनको लेने के बाद भी कुछ मामलों में यह संभावना रह ही जाती है की गर्भपात सही से न हो, बहुत खून जाए,इन्फेक्शन हो जाए या यह गोली काम न करे।
  • डॉक्टर की सलाह पर 1 टेबलेट Mifepristone की पहले ली जाती है। ये टबलेट खाली पेट लेना चाहिए।फिर 48 घंटे बाद माईज़ोप्रोस्टोल की 4 गोलियाँ मुंह से ली जाती हैं या फिर योनि के रास्ते से डॉक्टर गर्भ में डालते हैं ।
    कुछ घंटों में या फिर कभी कभी ४ से ५ घंटे में दर्द के साथ बहुत अधिक ब्लीडिंग शुरू हो जाती है। ब्लीडिंग के साथ अधिक मात्रा में टिश्यू और क्लोट्स भी होने लगते हैं। ब्लीडिंग के साथ कुछ सफ़ेद डिस्चार्ज हो सकता है जो की fits के पार्ट्स होते हैं।
  • ब्लीडिंग कुछ दिनों तक काफी मात्रा में जारी रहती है।ब्लीडिंग पीरियड्स के दौरान जो ब्लीडिंग होती है उससे कही ज्यादा होनी चाहिए।दर्द को कम करने के लिये डॉक्टर के राय से पैन किल्लर ले सकते हैं।
  • अगर एबॉर्शन होता तो माईज़ोप्रोस्टोल को डॉक्टर के निर्देश से फिर से लेना पड़ सकता है।योनि से bleeding आपको एक महीने तक या उससे ज्यादा हो सकती है।
  • यह भी जरूरी है abortion के 15 दिनों के बाद एक अल्ट्रा साउंड कराये जिससे यह पता चले की गर्भपात अच्छे से या सही तरीके से हुआ है या नहीं और गर्भाशय अब खाली है।
  • अबॉरशन के बाद फिर से पीरियड्स सही से आने में थोड़ा समय लगता है। इसलिए जरूरी है आप अपने डॉक्टर से सलाह मसूरा करते रहे जिससे आपको आगे चल कर कोई परेशानियों न जेलनी पड़े।

इसे भी पढ़ें: हेमपुष्पा के फायदे एवं उपयोग इन हिन्दी (Benefits of hempushpa in hindi)

What are the contradiction of Unwanted 200mg

#1. एक्टोपिक गर्भावस्था 

ectopic गर्भावस्था के लिए गर्भवती महिलाओं की गर्भधारण के लिए इस दवा को नहीं ली जाती है।

#2. Corticosteroids

जो रोगी प्रतिरक्षा प्रणाली विकार जैसे गंभीर परेशानी के लिए corticosteroids का उपयोग कर रहे हैं उन रोसी को इस दवाइ का उपयोग करने के लिए अनुशंसित नहीं की जाती है।

#3. एलर्जी

यदि आपको किसी भी प्रकार की एलर्जी हो या किसी भी अन्य दवा का उपयोग कर रहे हो तो इस दवा का प्रयोग नहीं की जाती है।

#4. इंट्रा-गर्भाशय डिवाइस का वर्तमान उपयोग

इस दवा का उपयोग उन महिलाओं के लिए सिफ़ारिश नहीं कि जाती है जिनके पास iud (इंट्रा -गर्भाशय) डिवाइस लगी होती है।

#5. योनि से खून बहना 

इस दवा का उपयोग उन महिलाओं के लिए सिफ़ारिश नहीं की जाती है जिनके योनि से अस्पष्टीकृत खून बह रहा हो या इसका कोई इतिहास हो। रक्तस्राव आंतरायिक हो सकता है और मेरोपोश गर्भाशय के कैंसर का संकेत मिलता है।

#6. आनुवांशिक असामान्यता

रोगियों में त्वचा (पोर्फियारिया) और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने वाले रक्त की बीमारी के रोग या विकार जो आनुवंशिक रूप से विरासत में मिली हो इस दवा को लेने की सिफारिश नहीं की जाती है।

#7. खून बहना

खून बहने की समस्या वाले रोगियों में इस दवा का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है।

इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन – Health Tips for Women & Girls in Hindi

Sideeffects of Unwanted Kit in Hindi

अनवांटेड किट 200 एमजी टैब्लेट के कारण कुछ sideeffects भी हो सकते हैं। ऐसे मामलों में, आप को तत्काल चिकित्सा लेनी चाहिए। अपने चिकित्सक को सूचित करें यदि आप दवा के सीडीफ़्फ़ेक्ट्स महसूस करते हैं जैसे की:

  • योनि से खून का बहाव
  • थकान और कमजोरी का होना
  • पेट दर्द
  • गर्भाशय में ऐंठन का होना
  • उल्टी और गैस
  • सरदर्द
  • चक्कर आना
  • दस्त
  • पैर और बाह में दर्द
  • भूख का कम होना
  • पेशाब करने में परेशानी होना
  • सांस लेने में मुश्किल होना

Image Credit

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here