Divya Medohar Vati in hindi

दिव्य मेदोहर वटी (Divya Medohar Vati) आयुर्वेदिक गुणों वाली एक दवाई हैं जिसका प्रयोग वजन को कम करने के लिए किया जाता हैं। मोटापा आज के समय में एक आम समस्या बन गयी है। मोटापा घटाने के लिए हम तरह-तरह के प्रयास करते हैं जैसे की योगा, एक्सरसाइज और घरेलु नुस्खें।

पर दिनभर ज्यादा बिजी रहने की वजह से ये सब नहीं कर पाते।वजन बढ़ने के कई कारण होते है जैसे की पाचन तंत्र के खराबी,थ्यरोइड की समशया,हॉर्मोनल इमबैलन्स ,pcod,अधिक वसा वाला भोजन करने से होते है।मोटापा बढ़ने से ये मधुमेह ,hp ब्लड प्रैशर,बांझपन,हिर्दई,संचार की समस्या आदि का रिस्क होता है।अगर आप भी उन्ही में से एक हैं तो घबराइये नहीं ।

मोटापा कम करने के लिए टेबलेट और बाबा रामदेव weight loss मेडिसिन दिव्या मेदोहर वटी के बारे में जानेंगे यह पेट की चर्बी को कम करने, चयापचय को सही करने और पाचन संबंधी स्वास्थ्य को सुधारने में बहुत असरदार हैं। वजन कम करने का यह हर्बल उत्पाद हैं। जब ऊर्जा का ग्रहण ऊर्जा की खपत से ज्यादा होता हैं तो उससे भी शरीर का वजन बढ़ सकता हैं और इसे दिव्य मेदोहर वटी जैसी आयुर्वेदिक दवाईयो से संतुलित किया जा सकता है। इसे भी इसका प्रयोग हर उम्र के व्यक्ति कर सकते हैं और यह बच्चो के लिए भी लाभदायक हैं।

मूल्य : दिव्य मेदोहर वटी 50gm Rs .80.00

उपलब्धब्धा:यह ऑनलाइन और पतंजलि स्टोर में आसानी से मिल जाता है।
मुख्य गुण: मेदोहर,कृमिग्न,विरेचक
मुख्य उपयोग: मोटापा कम करना
दवाई का प्रकार: आयुर्वेदिक हर्बल

दिव्य मेदोहर वटी के घटक द्रव्य (Ingredients of Divya Medohar Vati in hindi)

घटक द्रव्यों के नाम

  • आमला (आंवला) या आमलकी (Indian Gooseberrय)94.90 मिलीग्राम
  • बहेड़ा या बिभीतकी (Terminalia Bellerica)94.90 मिलीग्राम
  • हरड़ या हरीतकी – Terminalia Chebula 94.90 मिलीग्राम
  • कुटकी – Picrorhiza Kurroa14.30 मिलीग्राम
  • त्रिवृत (निशोथ) – Operculina Turpethum 14.30 मिलीग्राम
  • वायविडंग – Embelia Ribes 28.60 मिलीग्राम
  • छोटी हरड़ – Terminalia Chebula 28.60 मिलीग्राम
  • शुद्ध गुग्गुल – Commiphora Mukuल 86.50 मिलीग्राम
  • शुद्ध शिलाजीत (शिलाजतु)14.30 मिलीग्राम
  • बबूल गोंद 28.60 मिलीग्राम

औषधीय कर्म (Medicinal Actions)

  • लेखन – शरीर को पतला करने वाला एवं विसेले पढ़ार्थों को दूर करना।
  • आमपाचक
  • वेदनास्थापन (गुग्गुल के कारण)
  • शोथहर
  • दुर्गन्धनाशक
  • पाचन – पाचन शक्ति बढाने वाली
  • अनुलोमक द्रव्य जो मल व दोषो को पाक करके,मल के बंधाव को ढीला कर दोस मल बाहर निकाल दे।
  • संशोधक
  • पितसारक
  • हल्का रेचक
  • वात (Vata) शामक द्रव्य जो वातदोष निवारक हो।
  • कफ (Kapha) शामक जो कफ को नास करे।

त्रिफला (Triphala) और गुग्गुल दिव्य मेदोहर वटी की मुख्य सामग्रियां हैं। त्रिफला के बारे में सब जानते हैं कि ये मोटापा दूर करने के लिए एक अच्छा दवा हैं। दस हफ़्तों के शोध और अध्ययन से ये पता चला हैं की इसके प्रयोग से शरीर की वसा और वजन में कई प्रतिशत की कमी होती हैं। त्रिफला वसा की पचाने की क्रिया को भी सुधारता हैं।

गुग्गुल का प्रभाव भी ऐसा ही होता हैं। यह वसा को तो कम करता ही हैं, इसके साथ ही पेट की चर्बी और शरीर का वजन कम करने में भी मददगार हैं। बाकि की सामग्री चयापचय में सुधार, वसा को शरीर में जमने से रोकने और वसा के कम होने की प्रक्रिया को बढ़ाने में महत्वपूर्ण रोल निभाती हैं।

कुटकी में पिकोरिजिन और ग्लाइकोसाइड पाये जाते है। इसमे कृमिनासक,ज्वरनाशक,हृदई के लिए टॉनिक और भूक बढ़ाने के गुण है। इसके सेवन से भूख सही से लगती है।ये हिचकी,लिवर के रोगो,शरीर में जलन,पेट के कीड़े आदि में लाभप्रद है।

त्रिवृत भी एक विरेचक या दस्तावर है। ये तासीर में गरम है। और कटु विपाक है।
हरीतकी आयुर्वेद की रासयान ओषधि है। यह पेट के रोगो में प्रयोग की जाने वाली सबसे प्रभावी ओषध है। ये भी मुटरक और दस्तावर है। यह अफरे को दूर करतीं है और पेट के कीड़ो को भी नष्ट करती है।

शिलाजीत हिमालया की चट्टानों से निकालने वाला पढ़ार्थ है। आयुर्वेद में ओषोंधीय प्रयोजन के लिए शिलाजीत को शुद्ध करके प्रयोग के लिए शिलाजीत को शुद्ध करके प्रयोग किया जाता है। इसमे अत्यधिक सघन खनिज और अमीनो एसिड है।

बायबीढंग कृमि रोग,मेडवृद्धि तथा कफ रोगो के लिए विशेष रूप से उपयोगी है। यह अनुलोमन ,एंटीबाक्टेरियाल और कृमिनासक है। यह पेट के सभी रोगो,कब्ज,अफरा,अपच,पाइलस आदि में उपयोगी है।

दिव्य मेदोहर वटी के लाभ एवं उपयोग (Benefits and uses of Divya Medohar Vati in Hindi)

१) मोटापा या अधिक वजन – जैसा की पहले भी बताया गया हैं की दिव्य मेदोहर वटी वजन कम करने के लिए एक असरदार औषधि हैं । इसका पुरे शरीर के वजन के मुकाबले पेट की चर्बी कम करने में सबसे अधिक प्रभाव पड़ता हैं। इसकी एक गोली में मौजूद सामग्री की मात्रा वांछित परिणामो के लिए बहुत कम हैं इसीलिए कुछ मोटापे के शिकार लोगो को मेदोहर वटी की अधिक खुराक की जरूरत हो सकती हैं। वजन कम करने के लिए रोजाना तीन गोलियां तीन बार लेना सबसे सही खुराक हैं । इसके अलावा मेदोहर वटी के कुछ अन्य लाभ भी हैं
२) वजन को नियंत्रित करने के साथ साथ मेदोहर वटी भूख को भी नियंत्रित करती हैं।
३) मेदोहर वटी हार्मोन्स को संतुलित रखने में भी सहायक हैं।
४) यह उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगो की समस्या कम करने में भी मदद करता हैं।
५) कई महिलाएं बच्चों के जन्म के बाद मोटापे से ग्रस्त हो जाती हैं, इस मोटापे को भी मेदोहर वटी कम करने में लाभदायक हैं।
६) मेदोहर वटी एक अद्भुत हर्बल उपचार हैं वजन कम करने के साथ साथ शरीर को मजबूती प्रदान करती हैं।
७) यह metaboliism को सही करती है।
८) यह पाचन को सही कर ,fat को कम करने में करती है।
९) ये हॉर्मोनल असंतुलन को दूर करता है।
१०) यह मांसपेशियो में दर्द,गठिया,जोड़ो का दर्द और स्पोण्डालयतीस के दर्द मे आराम देता है।
११) यह डियाबेटीस को बढ़ने से रोकने में भी कम आता है।
१२) यह कृमिनासक है।

दिव्य मेदोहर वटी की मात्रा एवं सेवन विधि (Dosage of Divya Medhohar Vati in Hindi)

बच्चे 1 से 2 गोलियां दिन में दो बार
वयस्क 2 से 3 गोलियां दिन में दो बार
वृद्धजन 1 से 2 गोलियां दिन में दो बार
एक दिन में अधिकतम खुराक 4.5 ग्राम (या 9 गोलियां) बिभाजित खुराकों में ली जा सकती है, एक साथ इतनी मात्रा का सेवन नही करना चाहिए।मेदोहर वटी खाने का सही समय है खाना खाने के 30 मिनट पहले या खाने के 60 मिनट बाद इसका सेवन करना चाहिए। मेदोहर वटी का सेवन गर्म पानी के साथ करना सर्वश्रेष्ठ हैं। गर्म पानी मेदोहर वटी की सामग्री के अवशोषण को बढ़ाता हैं जिससे अच्छे परिणाम मिलते हैं।

दिव्य मेदोहर वटी की खुराक को रोगी के वजन के अनुसार समायोजित करना ज़रूरी हो सकता हैं। आपके डॉक्टर आपको इसकी यहाँ दी गई मात्रा से अधिक मात्रा दे सकते हैं और यह मात्रा आपने शरीर के वजन, उम्र और मेदोहर वटी को सहन करने की क्षमता पर निर्भर करती हैं। यदि आप को मेदोहर वटी की बताई हुए खुराक लेने से वांछित परिणाम न मिले, तो आप आयुर्वेदिक चिकित्सक की राय लें। आयुर्वेदिक चिकित्सक आप के शरीर की जाँच कर दोष अनुसार आप के लिए अच्छे योग की सलाह दे सकता है। यह भी ध्यान रखना चाहिए की मेदोहर वटी के अकेले सेवन करने की तुलना में इसके रोज़ाना सेवन और इसको दूसरी औषधियों के साथ लेने से अच्छे परिणाम मिल सकते हैं।

दिव्य मेदोहर वटी दुष्प्रभाव,सुझाव और सावधानीय (Side Effects and caution of Divya Medhohar Vati in Hindi)

दिव्य मेदोहर वटी एक सुरक्षित दवा हैं, जिसके कोई साइड एफ्फेक्ट्स नही हैं।अच्छे परिणामो के लिए इसका नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। ऐसा मुमकिन हैं कि इसके सेवन के बाद आपको अधिक समय लगे वजन कम करने में या ये भी हो सकता हैं की इसके परिणाम कुछ देरी से नज़र आएं। शुरुआत में इसकी कम मात्रा लेनी चाहिए बाद में खुराक में मात्रा बढ़ायी जा सकती हैं।

फिर भी अगर इसके सेवन से कोई समस्या आती हैं तो आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक हैं।पानी ज्यादा मात्रा में पिये। शिशु एवं ५ वर्ष से कम आयु वाले बच्चों और गर्भबती महिलायो को इसका सेवन नही करना चाहिए।खाने में सलाद खाये, घी मिठाई और चीनी,जंक फूड,केक,कोल्ड ड्रिंक जैसे छीजे न खाये। दवाई के साथ भोजन एवं व्यायाम पर भी ध्यान दे। पानी गरम पीने की कोशिश करे। एल्कोहौल और खाते एवं मिर्च मसाले वाले खाने से बचे। Diabeties के दौरान ब्लड टेस्ट करते रहे।

Featured Image

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here