Black seeds ke fayde aur Nuksaan In Hindi

कलौंजी से खाने का स्वाद तो बढ़ता ही है साथ साथ यह गुणो की खान भी है। इसे बहुत से लोग काला जीरा तो बहुत लोग प्याज का बीज भी कहते है लेकिन ऐसा नहीं है। कलौंजी का दूसरा नाम (nigella sativa)नाइजेला सतीत्व है,यह इसका अंग्रेजी नाम है। बंगाली और पंजाबी की रसोई तो कलौंजी के बिना पूरी नहीं होती,क्योकि इसके काले बीज़ो का स्वाद बहुत बढ़िया होता है। ब्लेक सीड्स के बहुत ही फायदे है,इसे कैसे खाना चाहिए और इससे हम अपना इलाज कैसे कर सकते है।

Contents

कलौंजी के फायदे इन हिन्दी (Black Seeds Ke Fayde In Hindi)

  • कलोंजी के फायदे आंखो के रोशनी के लिए (Kalonji Benefits For Eyes In Hindi)
  • कलोंजी का फायदे सिर दर्द मे (Kalonji Benefits For Headaches in hindi)
  • कलोंजी के फायदे मधुमेह मे (Kalonji Benefits For Type२ diebities in Hindi)
  • कलोंजी के फायदे त्वचा के लिए (Kalonji Benefits For Skin In Hndi)
  • कलोंजी का तेल बालो के लिए (Kalonji Oil For Hair In Hindi)
  • याद्दाशत और दमा के लिए कलोंजी (kalonji Benefits For Asthma And Memory)
  • कलोंजी के फायदे वजन घटने मे (kalonji Benefits For Weight Loss)
  • कलोंजी के फायदे सफ़ेद दाग के लिए (Kalonji Benefits For Safed Daag)
  • पथरी मे कलोंजी के फायदे (Kalonji Benefits For Stone)
  • बुखार होने पर कलोंजी के फायदे (Kalonji Benefits For Fever)
  • जोड़ो के दर्द मे कलौंजी के फायदे (Kilonji For JointPain)
  • कलोंजी का तेल के फायदे कैंसर मे (Kilonji Oil Benefits For cancer)
  • कलोंजी का फायदे दिल के लिए (Kalonji Benefits For Heart)
  • कलोंजी के फायदे मुहाँसे मे (Kalonji Benefits For Acne)
  • कलोंजी के फायदे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे (Kalonji Benefits For Immunity)
  • बच्चों के जनम के बाद कलोंजी के फायदे (Kalonji Benefits For After Delivery)
  • कलोंजी पेट के लिए (Kalonji benefits for Stomach)

इसे भी पढ़ें: बादाम के उपयोग, फायदे एवं नुकसान (Badam ke Benefits and Side Effects)

#१. कलोंजी के फायदे आंखो के लिए (Kalonji Benefits For Eyes)

गाजर के रस मे कलोंजी का तेल मिला के पीने से आंखो मे अगर चश्मा लग गया हो तो धीरे धीरे नंबर कम हो जाएगा।
अगर रोज आधी चम्मच कलोंजी चबा कर खाया जाए तो बढ़ती उम्र की थकान और कम्प्युटर के सामने बैठने से जो भी आंखो की परेशानिया होती है उसमे आराम मिलेगा। यह हमारे ब्लड को भी शुद्ध करता है।

#२. कलोंजी के फायदे सिर दर्द के लिए (Kalonji Benefits For Headaches)

दिन भर कम करने से बहुत तनाव हो जाता है जिससे सर मे दर्द होने लग जाता है,उस समय सर दर्द की गोली न खाकर थोड़ा सा ब्लेक सीड्स चबा ले दर्द मे बहुत राहत मिलती है। अगर सर्दी जुखाम हो गया हो तो कलोंजी के तेल मे कुछ बूंदे सरसों के तेल की मिलाकर कान के पीछे और सिर मे लगाने से सिर दर्द मे राहत मिलती है। ग्रीन टी मे कुछ बूंदे कलोंजी का रस मिलाकर पीने से सिर दर्द मे राहत मिलती है।

#३. कलोंजी के फायदे मधुमेह मे (Kalonji Benefits For diabetes)

ब्लेक सीड्स मे लिनोलेक एसिड,मेलेन्थीन,निगीलिने,अनेतोले,थमोक्विनोने,होता है जो ब्लड शुगर को नियंत्रित रखता है। यह टाइप २ डायबिटीज मे बहुत ही फायदेमंद है,क्योकि यह खून मे शुगर की मात्र को नियंत्रित रखता है और पैंक्रियाज़ को सक्रिय करने की कोशिश करता है,मधुमेह के रोगी को रक्तचाप की बीमारी भी होने का डर रहता है,इसलिए सब्जी,सूप या सलाद मे कलोंजी का पाउडर या तेल का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

Black seeds ke fayde aur Nuksaan In Hindi

#४. कलोंजी के फायदे त्वचा के लिए (Kalonji benefits For Skin)

कलोंजी का तेल सौंदर्य प्रसाधनों मे सदियो से उपयोग हो रहा है,कलोंजी के तेल को जैतून के तेल मे मिलाकर लगाने से दाग धब्बे मिट जाते है,चेहरे का रंग साफ हो जाता है और त्वचा दमकने लगती है।
कलौंजी के तेल को दही और नींबू के रस के साथ मिलाकर लगातार एक महीने लगाने से कील मुहाँसे ठीक हो जाते है और धीरे धीरे दाग धब्बे भी मिट जाते है।

इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन – Health Tips for Women & Girls in Hindi

#५. कलोंजी का तेल बालो के लिए (Kalonji Oil For Hair)

कलोंजी के बीज़ को भीगो कर पीस ले पीसने के बाद इसे दही और मेहँदी पाउडर के साथ मिलाकर बालो मे लगाने से रूसी की समस्या खत्म हो जाएगी और बालो मे चमक आ जाएगी।
कलोंजी ऑइल को बालो मे लगाने के पहले बालो मे नींबू का रस लगा के धो ले जब बाल सूख जाए तो नारियल के तेल मे कलोंजी का तेल मिलाकर बालो की जड़ो मे लगाने से बाल झड़ने की समस्या खत्म हो जाती है।
कलोंजी के तेल को प्याज के रस के साथ मिलाकर लगाने से नए बालो को उगाने मे मदद मिलती है।

#६. याद्दाशत और दमा के लिए कलोंजी (Kalonji For Asthama And Memory)

अगर नियमित रूप से कलोंजी के सीड्स का सेवन किया जाए तो यह याददाश्त बढ़ाने मे बहुत ही फायदेमंद होता है।
एक ग्लास पानी मे पुदीना की कुछ पत्तियाँ डालकर उबाल ले,उबलने के बाद जब यह आधा रह जाए तो इसमे कलोंजी का तेल की कुछ बूंदे डालकर पीने से मेमोरी पावर बढ़ता है।
दमा से पीड़ित व्यक्ति को रोज़ सुबह शाम गरम पानी या ग्रीन टी मे कुछ बूंदे कलोंजी ऑइल और शहद डालकर पीने से अस्थमा मे राहत मिलती है। कलोंजी को चबाने से बलगम बाहर निकलता है।

#७. कलोंजी के फायदे वज़न घटाने मे (Kalonji Benefits For Weight Loss)

अगर आपका वजन बढ़ गया हो तो आप नियमित रूप से कलोंजी या कलोंजी के तेल का इस्तेमाल करे आप इसे सब्जी, पराठा या फिर पुदीने की चाय मे ,ग्रीन टी मे,करेला के रस मे या फिर लौकी के रस मे मिलाकर पी सकते है। इसके नियमित इस्तेमाल से वज़न भी कम होगा और गॅस की समस्या भी मिट जाएगी।

इसे भी पढ़ें: मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

#८. कलोंजी के फायदे सफ़ेद दाग के लिए (Kalonji Benefits For Safed Daag)

सफ़ेद दाग होने का कारण है आट्टोइम्म्युने रिसपोनस से और ऐसे मे सीरके मे कुछ बूंदे कलोंजी का तेल मिलाकर लगाए और ब्लेक सीड्स का सेवन करे। लेमन ग्रास के तेल और कलोंजी का तेल मिला के लगाने से भी आराम मिलता है,यह रोग को बढ्ने नहीं देता है।

इसे भी पढ़ें: इलायची के फायदे और नुकसान (Elaichi ke Fayde and Side Effects in Hindi)

#९. पथरी मे कलोंजी के फायदे (Black Seeds Benefits For Stone)

पेट मे जब पत्थर हो जाते है तो बहुत तेज़ दर्द होता है। गुर्दे की या पीत्त की पथरी हो जाय तो कलोंजी के तेल और पाउडर को शहद मे मिलाकर दिन मे तीन बार लेने से पथरी के दर्द मे राहत मिलती है।

#१०. बुखार होने पर कलोंजी के फायदे (Kalonji Benefits For Fever)

बुखार होने पर अदरक के रस और कलोंजी तेल की कुछ बूँद गरम पानी या दूध मे मिलाकर पीने से बुखार मे राहत मिलती है। इसे ग्रीन टी मे भी डाल कर सेवन कर सकते है। सर्दी जुकाम और बुखार होने पर दालचीनी और कलोंजी को शहद मिला कर चाटने से आराम मिलता है।

#११. जोड़ो के दर्द मे कलोंजी के फायदे (Black Seeds Benefits For Joint Pain)

जोड़ो के दर्द मे कलोंजी बहुत ही फायदेमंद है। यह दर्द सूजन से होता है,ब्लेक सीड मे कई ऐसे तत्व है जो सूजन को कम करके दर्द मे राहत करता है। इसके लिए हमे नियम से कलोंजी के सेवन की जरुरत है। कलोंजी के तेल मे सरसों का तेल और थोड़ी सी हल्दी मिलाकर जोड़ो पर लगाने से दर्द गायब हो जाता है।

#१२. कलोंजी के तेल के फायदे कैंसर मे (Kalonji Oil Benefits for Cancer)

गले का कैंसर हो या खून का या फिर पेट का इन सबसे कलोंजी का तेल सुरक्षित रखता है,इसमे ऐसे रसायन होते है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है। अगर कलोंजी ऑइल नहीं मिले तो कलोंजी सीड्स या कलोंजी पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते है। कलोंजी तेल या पाउडर को अंगूर के रस या मौसम्बी के रस मे मिलाकर दिन मे दो बार पीना चाहिए।

#१३. कलोंजी के फायदे दिल के लिए (Kalonji Benefits For Heart)

कलोंजी दिल के लिए बहुत फायदेमंद है। इसके सेवन से रक्तचाप कम होता है अगर बकरी के दूध मे 4-5 बूंद कलोंजी का तेल डालकर दिन मे २ (दो) बार १(एक) महीने तक पिया जाय तो यह दिल को मजबूत करता है।
कलोंजी सीड्स खाने से हमारे शरीर का खराब कोलेस्ट्रॉल LDL को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल HDL को बढ़ता है। इसे हम सब्जी,पराठा,सलाद किसी भी चीज़ मे डाल कर खा सकते है।

इसे भी पढ़ें:  हाइ ब्लड प्रैशर कंट्रोल करने के घरेलू उपाय इन हिन्दी

#१४. कलोंजी के फायदे मुहाँसे मे (Kalonji Benefits For Acne)

मुहांसों की समस्या से छुटकारा पाने के लिए कलोंजी के पाउडर को हल्दी,नीम और कच्चे पपीते के पेस्ट मे मिलाकर रात को सोते समय लगा कर रात भर रहने दे इससे मुहाँसे के दाग भी साफ हो जाएंगे

#१५. कलोंजी के फायदे रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने मे (Kalonji Benefits For Immunity Power)

कलोंजी इतनी छोटी सी चीज होते हुए भी बहुत फायदेमंद है। यह हर एक रोग मे फायदा करती है। इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। ब्लेक सीड्स मे थेमोकुइने पाया जाता है जो विष निवारक है,इसलिए कलोंजी का रोज़ सेवन करना चाहिए।

#१६. बच्चों के जनम के बाद कलोंजी के फायदे (Kalonji Benefits For normal delivery In Hindi)

बच्चे के जन्म के बाद कलोंजी के तेल से माता की मालिश करवाने से कमजोरी दूर होती है साथ ही स्तनपान करवाने वाली माताओं को दूध बढ़ाने के लिए एक कप दूध मे कुछ बूंदे कलोंजी के तेल की डालकर सेवन करने से दूध की मात्रा बढ़ती है। महिलाओं को गर्भाशय संबंधी समस्या जैसे स्वेत प्रदर,महवारी की तकलीफ,मे कलोंजी खाने से फायदा मिलता है।

इसे भी पढ़ें: प्रेगनेंसी टिप्स फॉर नार्मल डिलीवरी

#१७. कलोंजी पेट के लिए (Kalonji Benefits For Stomach)

कलोंजी का चूर्ण बना कर लेने से पेट दर्द,बदहजमी,और भी पेट संबंधी समस्या मे राहत मिलती है। चूर्ण बनाने के लिए सौंफ,काले तिल,अजवाइन,हिंग और जीरा मिलाकर सेंक ले इसके बाद इसे पीस कर चूर्ण बना कर रोज़ खाना खाने के बाद एक चम्मच खाने से पेट की परेशानियाँ कम हो जाती है।
अगर पेट के उपर सूजन हो गयी हो तो कलोंजी के तेल की मालिश करने से कम हो जाएगी।

कलोंजी के नुकसान (Side Effects Of Kalonji Seeds)

कलोंजी को लगातार नहीं खाना चाहिए यानि की कुछ दिन खाने के दो तीन महीने के बाद ही इसे खाना चाहिए,क्योकि इसके सेवन से खून पतला हो जाता है जिससे गर्भवती महिलाओं को या फिर किसी का तुरंत ऑपरेशन हुआ हो तो रक्त्स्त्राव की समस्या हो सकती है।

अगर किसी व्यक्ति का रक्तचाप कम रहता हो तो उन्हे भी कलोंजी नहीं खाना चाहिए।
ऐसे देखा जय तो कलोंजी के साइड इफैक्ट से ज्यादा बेनेफिट्स ही है बस इसकी मात्र को ध्यान मे रखते हुए ही इसका सेवन करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here