इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन - Health Tips for Women & Girls in Hindi

आजकल ग्रीन टी जो की एक हर्बल टी है उसका प्रचलन काफी बढ़ गया है और बढ़ना भी चाहिए क्योंकि इसके प्रयोग से आप अपने शरीर की कई समस्या से लड़ने में मदद मिल सकती है जैसे की वजन कम करना, कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करना, हार्ट अटैक, रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में,केलोरी बर्न करने में काम आता है।

ये कमीलया सिंथेसिस के पत्तियों द्वारा बनती है। इसमे एंटीओक्सीडेंट गुण होते है जो समस्या को कम करने में मदद करता है।पर कुछ ऐसे लोग है जिसे अभी तक ग्रीन टी के बारे में पता नहीं है या फिर उन्हे इसे बनाने नहीं आता। अभी भी कई व्यक्ति अपनी थकान और तरोताजा होने के लिए चाय का सहारा लेते है। पर जो दूध वाली चाय हम पीते है उससे हमारे शरीर की पाचन शक्ति कमजोर होती है और कब्जियत,गॅस व पेट की समस्या को बढाती है।पर ग्रीन टी पीने से कई प्रकार की समस्याओ से छुटकारा पाने में हमे फायदा मिलता है। तो चलिये जाने ग्रीन टी के फायदे

इसे भी पढ़ें: मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

ग्रीन टी पीने के फायदे इन हिन्दी (Green tea ke fayde in hindi)

#१.ग्रीन टी पीने से हम अपने बॉडी का वेट लॉस यानि आसानी से वजन घटा सकते है। ये हमारे शरीर के एक्सट्रा केलोरी को बर्न करके वजन घटाने में मदद करता है।

#२. ब्लड प्रैशर या हाइ बीपी के खतरे को कम करने के लिए ग्रीन टी काफी फायदेमंद होती है।

#३. बालो के झड़ने को कम करने के लिए भी हम ग्रीन टी का इस्तेमाल कर सकते है।

#४. रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए ग्रीन टी काफी फायदेमंद होती है। ये शरीर में एनर्जि एवं स्टैमिना को बढ़ाने में फायदेमंद होता है।

#५. ये हमारे दिमाग को तेज करता है साथ ही हमारे याददाश्त शक्ति को बढ़ाने में काम करता है।

#६. मुंह के बदबू एवं दाँत की परेशानी को दूर करने के लिए हरी चाय को बिना शहद या शक्कर के ले।

#७. कैंसर से लड़ने में सहायता प्रदान करता है।

#८. डाईबीटीज़ को नियंत्रित करने में सहायक होता है।

#९. ये अनेकों प्रकार के इन्फ़ैकशन से सुरक्षित रखता है और बैक्टीरिया को खत्म करता है।

#१०. न्यूरोलोजिकल रोग होने से बचाता है।

ग्रीन टी को ज्यादा मात्रा में प्रयोग न करे क्योंकि कोई भी चीज को एक सही तरीके से लेनी चाहिए। ग्रीन टी के अधिक सेवन से अनिद्रा ,पेशाब ज्यादा आना, उल्टी, दस्त, पेट की अन्य परेशानी हो सकती है। इसलिए जरूरी है आप ग्रीन टी को सही तरीके एवं सही मात्रा में ले। तो आइये चले जाने ग्रीन टी बनाए के सही तरीके को।

इसे भी पढ़ें: २० हैल्थ टिप्स फॉर मेन (Health Tips for Men Body in Hindi)

ग्रीन टी बनाने का सही तरीका एवं विधि (रैसिपि) इन हिन्दी (How to make Green tea at home for weight loss in hindi)

ग्रीन टी मार्केट में दो तरह से उपलब्ध होती है पहली ग्रीन टी बेग और दूसरी ग्रीन टी की पत्तियों में। ग्रीन टी दो तरीके से बनाई जाती है पहली खुली हुई पतियों से और दूसरी टी बेग के इस्तेमाल से।

इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन - Health Tips for Women & Girls in Hindi

ग्रीन टी की पत्तियों से चाय बनाने का तरीका (Green tea ki Patiyo se hari chai banane ka tarika)

सामाग्री (Ingredients)

  • ग्रीन टी की पत्तिया
  • गरम पानी
  • शहद
  • नींबू का रस

बनाने की विधि

  • एक कप पानी ले आर इसे स्टील के बर्तन में गरम कर ले। पर इस बात का ध्यान रखे पानी को ज्यादा गरम करने से ग्रीन टी का स्वाद कड़वा हो सकता है। इसलिए इसे ८५ डिग्री सेल्सियस तक गरम करे।
  • जब पानी गरम हों जाए तो आंच को बंद कर दे। और कुछ देर थोड़ा ठंडा होने दे की ताकि इसका तापमान सही होजाए।
  • अब इस पानी में ग्रीन टी का पाउडर आधी छोटी चम्मच डाले।इसे थोड़ी देर यानी १ मिनट के लिए छोड़े।
  • अब इसे मिलाये और मिलाते समय पानी का रंग भूरा होजाएगा। अब चाय को छलनी से छान ले।
  • फिर इसे या तो ऐसे ही पिये या फिर इसका स्वाद बढ़ाने के लिए इसमे शहद या चीनी थोड़ी सी मिलाये। इसमे आप
  • थोड़ी सी इलाइचि पाउडर भी डाल सकते है।
  • इसके स्वाद को बढ़ाने के लिए आप इसमे नींबू का रस भी दल सकते हो।

ग्रीन टी बेग से चाय बनाने का तरीका

  • एक कप पानी किसी बर्तन में उबाल ले।
  • फिर एक कप ले और उसमे एक टी बेग रखे।
  • फिर इसमे उबला हुआ पानी डाले और थोड़ा हिला दे।
  • इसके बाद दो मिनट के लिए इसे ढक दे। ज्यादा देर न ढके क्योंकी इसका टेस्ट करवा हो सकता है।
  • फिर टी बाग निकाल कर छाई पी ले।

नोट

  • ग्रीन टी बनाते समय इसमे गलती से भी दूध का इस्तेमाल न करे।
  • चीनी सेहत के लिए अच्छी नहीं है और इसलिए हो सके तो सिर्फ इसमे शहद और नींबू का ही प्रयोग करे।अगर आपको मिंट का टैस्ट पसंद हो तो आप इसमे पुदीने की पत्ती भी डाल सकते है।
  • आप इसमे अदरक,तुलसी का भी प्रयोग कर सकते है।और अगर आपको तुरंत टी पीनी है तो आप ग्रीन टी बेग का भी प्रयोग कर सकते है।
  • इसमे कैफीन की मात्रा अधिक होती है तो इसे जरूरत से ज्यादा उपयोग न करे।गर्भावस्था के दौरान ग्रीन टी का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही अगर आप स्तनपान करा रही है तो इसे न ले। इसे किसी दवाई के साथ सेवन न करे।

इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन – Health Tips for Women & Girls in Hindi

ग्रीन टी पीने का सही समय (When to Drink Green tea in hindi)

इसे भी पढ़ें: 19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन - Health Tips for Women & Girls in Hindi

इसे आप सुबह खाली पेट लेने से बचे और नाश्ते से पहले इसे न ले। नाश्ते और दोपहर के खाने के बाद खरीब १ घंटे बाद ही ग्रीन टी पीए। पर रात में सोने से पहले लेने से बचे क्योंकी इसमे कैफीन होता है जो अनिंद्रा का कारण हो सकती है। और कम से कम व्यायाम करने से आधे घंटे पहले ग्रीन टी पीने की सलाह दी जाती है क्योंकि ये आपके स्टेमिना को बढ़ाता है।

इसे भी पढ़ें: Roz swadisth Khana Ke Recipes

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here