high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

आप सभी तो मानते ही होगे की आजकल लोगों की जिंदगी जीने का तरीका काफी बदल गया है। अधिकतर आजकल के लोग या में हु या आप,मशीनों पर बढ़ती हमारी निर्भरता ने बेशक हमारी जिंदगी को आसान बनाया हो  पर साथ ही हमे कई बीमारियां भी मिली हैं।लोगो का सही ढंग से न खान पान करना ,न जल्दी उठना,न जल्दी सोना,न योगा करना,और न ही अपने लिए वक्त निकालना ये सब हमे बीमारियो की तरफ ही खिच रह है जैसे की  उच्‍च रक्‍तचाप इनमें से एक है।

यह बीमारी सुनने में कभी कभी छोटी लगती हो, लेकिन हृदयाघात और अन्‍य हृदय की बीमारी होने का यह प्रमुख कारण है। ऐसे में जरूरी है कि उच्‍च रक्‍तचाप(blood pressure) को नियंत्रित रखा जाए।हाइ ब्लड प्रैशर में रोगी का सिर घूमने लगता है,कुछ अच्छा नहीं लाघता, गुस्सा भी बहुत आता है। जो हमारे या किसी के लिए भी सही नहीं है।

हाई ब्‍लड प्रेशर के सामान्‍य लक्षण ,उच्च रक्तचाप के लक्षण (Symptoms of high blood pressure in hindi)

ज़्यादातर लोगों में हाइ ब्लड प्रैशर का कोई लक्षण नहीं होते और डॉक्टर से सलाह करने एवं जांच कराने के पश्चात ही उन्हें अपनी इस समस्या के बारे में पता चलता है। इसके कोई साफ़ लक्षण नहीं होने के कारण बहुत से लोग काफी दिनों तक इस समस्या के शिकार रहते हैं और उन्हें पता तक नहीं होता है।

जरूरत है समय से पहले इसे जाने और समझे और इसके इलाज के लिए हम कुछ करे।तो आए जाने सके क्या क्या लक्षण होते है जिससे हमे आसानी हो इस बीमारी को पहचानने में।  अगर आप बहुत तेज़ सिर दर्द, नाक से खून निकलना, चक्कर आना, उलटी, भ्रम तथा आँखों की समस्या के शिकार हो रहे हैं तो इसका मतलब आपको काफी उच्च रक्तचाप(b/p) है जिसे मलिग्नैंट हाइपरटेंशन कहते हैं।

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

अगर आप हाइपरटेंशन के शिकार हैं तो अपनी जीवनशैली को बदलें। इससे आपका रक्तचाप सामान्य स्तर पर आने की संभावना रहती है। हाई ब्लड प्रेशर में चक्कर आने लगते हैं, सिर घूमने लगता है। रोगी का किसी काम में मन नहीं लगता। उसमें शारीरिक काम करने की क्षमता नहीं रहती और रोगी अनिद्रा का शिकार रहता है।

इस रोग का घरेलू उपचार भी संभव है, जिनके सावधानीपूर्वक इस्तेमाल करने से बिना दवाई लिए इस भयंकर बीमारी पर पूर्णत: नियंत्रण पाया जा सकता है। जरूरत है संयमपूर्वक नियम का पालन किया जाए। इनके अलावा अगर किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप की समस्या है या नहीं ये पता चलता है निम्नलिखित लक्षणों से :-

अगर वह व्यक्ति एक दिन में काफी ज़्यादा मात्रा में धूम्रपान करता है या शराब का सेवन करता है तो भी उसे उच्च

  • रक्तचाप की समस्या की समस्या हो सकती है।
  • अगर वह व्यक्ति मधुमेह एवं मोटापे जैसी समस्याओं का शिकार है।
  • अगर उस व्यक्ति के परिवार में पहले भी किसी को उच्च रक्तचाप की समस्या रही है।
  • अगर वह व्यक्ति किसी कारण से बहुत ज़्यादा तनाव में है।

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

रक्तचाप के कारण (Causes of the high blood pressure – high blood pressure ke karan in hindi)

ज़्यादातर व्यक्तियों में उच्च रक्तचाप की समस्या जन्म लेने का कोई कारण नहीं होता। इसे प्राथमिक उच्च रक्तचाप कहा जाता है। जो रक्तचाप किसी औषधि के सेवन से या किसी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या के फलस्वरूप बढ़ती है उसे मध्यम स्तर का उच्च रक्तचाप कहा जाता है।

हाई ब्लड प्रेशर के कारण – मध्यम स्तर के उच्च रक्तचाप के कारण (Secondary hypertension come to you due to)

1)  दीर्घकालिक गुर्दे की बीमारी।
2)  अधिवृक्क ग्रंथियों की समस्या जैसे फिओक्रोमोसीटोमा या कुशिंग सिंड्रोम।
3) गुर्दे में रक्त संचार करने वाली धमनियों में समस्या।
4) हाइपर पैरा थाइरॉइडिस्म।
5) कुछ दवाइयों जैसे बर्थ कंट्रोल पिल, माइग्रेन की दवाइयाँ, डाइट की गोलियां तथा ठण्ड से बचने वाली दवाइयाँ।

Also Read: Home Remedies For Cold and Cough In Hindi

शरीर में रक्तचाप के कई कारक होते हैं जैसे शरीर में पानी एवं नमक की मात्रा, रक्त वाहिकाओं की तथा गुर्दे जैसे शरीर के मुख्य अंग की स्थिति, तंत्रिका तंत्र की स्थिति तथा किसी व्यक्ति के हॉर्मोन का स्तर। याद रखें उच्‍च रक्‍तचाप हमारी सेहत के लिए बेहद खतरनाक होता है। लेकिन, रक्‍तचाप अगर सामान्‍य से कम हो, तो वह भी सेहत के लिए कम खतरनाक नहीं होता। इसलिए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से सलाह जरूर लें।

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

 

हाई ब्लड प्रेशर के लिए घरेलू उपाय (High blood pressure ke gharelu upay in hindi )

1) बढे हुए ब्लड प्रेशर को जल्दी कंट्रोल करने के लिये आधा गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर 2-2 घंटे के अंतर से पीते रहें।

2) पांच तुलसी के पत्ते तथा दो नीम की पत्तियों को पीसकर 20 ग्राम पानी में घोलकर खाली पेट सुबह पिएं। 15 दिन में लाभ नजर आने लगेगा।

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

3) नमक ब्लड प्रेशर बढाने वाला प्रमुख कारक है। इसलिए हाई बी पी वालों को नमक का प्रयोग कम कर देना चाहिए।

4) लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार घरेलू उपाय है। यह रक्त का थक्का नहीं जमने देता है। और कोलेस्‍ट्रॉल को नियंत्रित रखता है।

Also Read: Badam ke Fayde aur ke Nuksan in Hindi

5) एक बडा चम्मच आंवले का रस और इतना ही शहद मिलाकर सुबह-शाम लेने से हाई ब्लड प्रेशर में लाभ होता है।

6) जब ब्लड प्रेशर बढा हुआ हो तो आधा गिलास मामूली गर्म पानी में काली मिर्च पाउडर एक चम्मच घोलकर 2-2 घंटे के अंतराल पर पीते रहें।

7) तरबूज के बीज की गिरी तथा खसखस अलग-अलग पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर रख लें। इसका रोजाना सुबह एक चम्‍मच सेवन करें।

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

8) हाई ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए पपीता भी बहुत लाभ करता है, इसे प्रतिदिन खाली पेट चबा-चबाकर खाएं।

9) नंगे पैर हरी घास पर 10-15 मिनट चलें। रोजाना चलने से ब्लड प्रेशर नार्मल हो जाता है।

10) सौंफ, जीरा, शक्‍कर तीनों बराबर मात्रा में लेकर पाउडर बना लें। एक गिलास पानी में एक चम्मच मिश्रण घोलकर सुबह-शाम पीते रहें।

11) पालक और गाजर का रस मिलाकर एक गिलास रस सुबह-शाम पीयें, लाभ होगा।
high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

12) करेला और सहजन की फ़ली उच्च रक्त चाप-रोगी के लिये परम हितकारी हैं।

13) गेहूं व चने के आटे को बराबर मात्रा में लेकर बनाई गई रोटी खूब चबा-चबाकर खाएं, आटे से चोकर न निकालें।

14) ब्राउन चावल उपयोग में लाएं। यह उच्च रक्त चाप रोगी के लिये बहुत ही लाभदायक भोजन है।

15) प्याज और लहसुन की तरह अदरक भी काफी फायदेमंद होता है। इनसे धमनियों के आसपास की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है जिससे उच्च रक्तचाप नीचे आ जाता है।

16) तीन ग्राम मेथीदाना पावडर सुबह-शाम पानी के साथ लें। इसे पंद्रह दिनों तक लेने से लाभ मालूम होता है।

17) गर्म पानी में आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर मिलाकर इसे अच्छी तरह घोल लें. इस मिश्रण को पीने से रक्त चाप नियंत्रण में रहता है. इस प्रयोग को नियमित रूप से खली पेट में करना चाहिए.

18) मेथी में ब्लड प्रेशर को सही रखने का गुण पाया जाता है।  मेथी के प्रयोग वैसे तो कई तरह से किये जाते हैं, खाने में भी मेथी एक प्रयोग मसाले के तौर पर किया जाता है।  पर ब्लड प्रेशर के लिए मेथी को सादे पानी के साथ सेवन करना बेहतर उपचार होता है। इसके लिए मेथी को पीस कर पाउडर बना कर किसी बंद डिब्बे में रख लें। इसे रोजाना सुबह खाली पेट में गुनगुने पानी से साथ एक चम्मच मिला कर पीयें।

हाइ ब्लड प्रैशर कंट्रोल करने के कुछ टिप्स (High blood control karne ke tips in hindi )

हमे अपने जीवन में कुछ टिप्स अपनाने चाहिए जिससे हमारे हाइ ब्लड प्रैशर को कंट्रोल में ला सकते है और अधिकतर बीमारियो से लड़े में मदद मिलेगा। आप कितने भी उपाय कर ले और अगर हम अपने जीने का तरीका नहीं सुधरेगे तो कोई उपाय या दवाइया कम नहीं करेगी। इसलिए आएए जाने कुछ आसान टिप्स जिससे हम ब/प को कंट्रोल कर सके।

१) हाई बीपी का इलाज, खाने में सोडियम की मात्रा घटाएं और फर्क देखें।

२) हाई ब्लड प्रेशर का उपचार, ह्रदय को स्वस्थ रखने वाले भोजन खाएं। फाइबर, पोटैशियम और लौह खनिज की मात्रा वाले भोजन करने से आपका ह्रदय स्वस्थ रहेगा। काफी मात्रा में पानी पीना भी एक बेहतर विकल्प है।

 

high blood pressure contol karne ke gharelu upay in hindi

३) हाई ब्लड प्रेशर के घरेलू इलाज, शराब पीने की मात्रा कम करें। शराब पीने का हिसाब रखें एवं इस मात्रा को कम करने की कोशिश करें।

४) हाई ब्लड प्रेशर के घरेलू इलाज, शरीर का वज़न कम करने का प्रयास करें। हाई बी पी के लिए उपचार, सही प्रकार के व्यायाम करें जिससे की शर्तिया लाभ हो।

५) उच्च रक्तचाप के लिए घरेलू उपचार, वज़न घटाने, धूम्रपान छोड़ने एवं शारीरिक व्यायामों के शिविर में हिस्सा लें। इससे सटीक परिणाम मिलेंगे।

६) हाई ब्लड प्रेशर का उपचार, धूम्रपान से दूर रहे। अगर आपको धूम्रपान की आदत है तो इसे धीरे धीरे छोड़ने की कोशिश करें। धूम्रपान छोड़ना काफी कठिन कार्य है अतः इस मामले में डॉक्टर की सलाह लें।

७) हाई ब्लड प्रेशर के उपाय, तनाव से दूर रहें। तनाव पैदा करने वाली चीज़ों से परे रहने का प्रयास करें। आप तनाव दूर करने के लिए योग का सहारा भी ले सकते हैं।

आजकल के जीवनशैली में परिवर्तन लाना  एवं सही दवाओं के चुनाव करना ही एक सरल एवं असरदार उपाय होता है जिससे  रक्तचाप(हाइ ब्लड प्रैशर ) को नियंत्रण में लाना संभव है। अगर इसे नियंत्रण में नहीं लाया  गया तो आप कई बीमारिया जैसे गुर्दों की बीमारी, पैरों में खून का ना पहुंचना, दिल का दौरा, आँखों की समस्या, बड़ी रक्त वाहिका से रक्तपात जो कि पेट, पैर एवं कूल्हों में रक्त संचार करती है जैसी समस्याओं का शिकार हो सकते हैं।

Also Read: Ashwagandha Benefits in Hindi

तो याद रखे अगर आपको स्वस्थ रहना है तो आपको घरेलू उपाय के साथ साथ ये आसान से टिप्स भी अपनाने होगे जिससे आप जल्द से जल्द ठीक होजएगे। कोई भी उपाय अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here