Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

आजकल पेट दर्द होना जैसे आम बीमारी हो गयी है चाहे वो बच्चे हो या बड़े सभी को। पेट दर्द का मुख्य कारण है गलत खान पान और अपने शरीर पर ध्यान नहीं देना। पेट में दर्द किसी को कही भी हो सकता है। ये जरूरी नहीं उस व्यक्ति को कोई बीमारी हो या फिर उसे हर समय dard होता ही हो। पेट में दर्द व्यक्ति को ऊपर और नीचे हिस्से की तरफ होती है जो पहले कम हो के तेज हो जाती है।

पेट दर्द व्यक्ति को कभी भी कुछ देर के लिए या ज्यादा समय के लिए भी हो सकती है। पेट में दर्द कई अलग अलग कारणो से होता सकता है जो आम से लेकर गंभीर स्थितियो में हो सकती है जैसे की अत्यधिक गॅस से लेकर गंभीर स्थिति तक।कुछ महिलाओ को पेरिओड्स के दौरान और कुछ को तो गर्भावस्था के दौरान भी पेट दर्द सहना पड़ता है। पेट दर्द का पता डॉक्टर आपके शरीर की जांच के द्वारा पता करते है।
सबसे पहले चलिये आए जाने पेट दर्द कितने प्रकार से होते है –

Contents

पेट दर्द के प्रकार इन हिन्दी (Pet dard ke kitne prakar hote hai in hindi)

#१. सामान्य दर्द

सामान्य दर्द जब होता है तो जल्द ही व्यक्ति को इससे आराम भी मिल जाता है। ये दर्द पेट के आधे या उससे अधिक हिस्से में होता है। ये दर्द अलग अलग बीमारियो के साथ भी हो सकता है और ये दर्द बिना किसिस उपचार के भी टीएचके होने लगता है।जैसे की अपच और पेट की अन्य समस्या सामान्य पेट दर्द के कारण होती है।

#२. स्थानीय दर्द

स्थानीय दर्द व्यक्ति को पेट के एक हिस्से में होता है जो की अचानक और बहुत अधिक दर्द के लक्षण है।अपेंडिक्स का दर्द सामान्य दर्द से शूर होकर लेकिन हमेशा एक ही हिस्से में होने से ये स्थानीय दर्द के लक्षण हो जाते है।पिताशय क बीमारी या पेप्टिक अल्सर का दराड़ अक्सर पेट के एक हिस्से में शुरू होता है और उसी स्थान पे होता है।इसमे पेट के किसी अंग में सूजन भी हो सकता है।

#३. ऐंठन

ये एक प्रकार का दर्द है जो आता जाता रहता है और दर्द होने की स्थिति को कम या गंभीर बना देता है। ऐंठन ज़्यादातर सामान्य ही होती है जब तक गॅस या माल पारित करने से राहत नहीं मिलती है। कई महिलाओ को मासिक धर्म के समय ऐंठन होती है।

इसे भी पढ़ें: मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

पेट दर्द के लक्षण इन हिन्दी (Pet dard ke lakshan in Hindi)

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

पेट दर्द एक प्रकार का लक्षण ही है जिसका तात्पर्य यह है की कोई व्यक्ति अगर दर्द से परेशान है तो वो अपनी परेशानी डॉक्टर की सामने खुल कर करे जेएससे डॉक्टर को इसके लक्षण समझने में आसानी हो जैसे की-

  • बुखार
  • बहुत दिनो से सही ढंग से खाना पीना नहीं
  • माल त्यागने में पेट में परेशनि होना और उल्टी होना
  • उल्टी करते समय खून आना
  • माल त्यागने के समय में खून आना
  • सांस लेने में हर समाअत तकलीफ होना
  • पेशाब होने पर दर्द होना या कुछ बदलाव होना
  • गर्भावस्था के दौरान दर्द होना
  • पेट को छूने में मुलायम महस्सोस करना
  • अगर पेट के किससी हिस्से में चोट लगा हो
  • दर्द बहत दिनो तक रहना

ये सारे लक्षण आंतरिक समस्या के तरफ संकेत कर ते है तो जरूरी है आप इसका इलाज करवाए और जल्द से जल्द इस परेशानी को दूर भगाये।

पेट दर्द होने के कारण इन हिन्दी (Pet mein dard aur gas ki problem ke karan in hindi)

पेट में दर्द बहुत से कारण से हो सकता है जैसे की

  • पेट में गॅस के कारण
  • एसिडिटि के कारण
  • अपच
  • पेट का फ्लू
  • अपेंडिक्स
  • मशिक धर्म के टाइम दर्द
  • कब्जियत
  • दर्द जो बड़ी आत को प्रभावित करे
  • फूड अलेरजी
  • फूड पोइजनिंग
  • हरणीया पिताशय में पथरी होनापाचन तंत्र ठीक से काम न करना
  • पेलविक क्षेत्र में सजन की बीमारी
  • अल्सर या फोड़ा
  • मूत्र पाठ के संक्रमण
  • त्वचा के चकते और दाद से कभी कबर दर्द होना
  • कुछ जहरीलों कीड़ो के द्वारा काटने पर दर्द होना
  • निमोनिया बीमारी में पेट दर्द होना
  • पेट में कीड़े होने के वजह से दर्द
  • दस्त की वजह से

पेट दर्द से बचाव इन हिन्दी (Gastric problem aur pet dard ke permanent solution in hindi)

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

पेट दर्द के कारण को आप रोक सकते है जो आपके वश में होता है बस जरूरी है आप अपने जीने का तरीका सही करे। पेट दर्द के बचाव के लिए आपको जरूरी है कुछ अच्छी आदते अपनाने की जिससे आप स्वस्थ एवं खुस रेह सकते है जैसे की

#१. खाना तेजी से नहीं धीरे से खाये

अगर आप अपने खाने को बड़े बड़े टुकड़ो में काट कर बिना चबाये खाते है तो उसके साथ आप हवा भी अपने भीतर निगलते है जिससे पेट में गॅस बनने लगती है और पेट में दर्द होने लगता है। इसलिए जरूरी है आप अपने खाने को धीरे धीरे खाये और चबा कर खाये।

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

#२. लंबे समय के अंतराल में भोजन न करे

कुछ लोग अपने खाने को बहुत ही लाते से खाते है या फिर सुबह खाते है फिर सीधे रात को जिससे उनके पेट में गॅस बनने लगती है और पेट में दर्द होना शुरू हो जाता है। इसलिए जरूरी है आप अपने खाने के अंतराल को छोटे छोटे समय पर बांधे जिससे आपको गॅस नहीं होगी, इसके लिए आपको अपनी डाइट को सही करना पड़ेगा और बीच बीच में कुछ स्नैक्स या हेयलथी छीजो को खाते रहना होगा।

#३. ज्यादा मसालेदार खाना खाने से बचे

अधिक ताला या मसालेदार खाना खाने से आपके पेट में परेशानी उत्पन्न होती है जिससे आपका पाचन तंत्र खराब होने लगता है इसलीये जरूरी है आप अपने खाने में सब्जिया आर फ़ाइबर युक्त भोजन शामिल करे जिससे आपका पेट सही रहेगा और आप स्वस्थ रहेगे।

इसे भी पढ़ें: Roz swadisth Khana Ke Recipes

#४. ज्यादा से ज्यादा पानी पिये

ज्यादा पानी पीने से आपके पेट की समस्या कम होती है और आपके पेट की गतीविधियों को ठीक रखता है। इसलिए जरूरी है आपको हर दिन ७ से ८ ग्लास पानी पीने की। प्यास लागने पर सोडा युक्त या कोलड्रिंक का सेवन मत करे।

#५. अपने हाथ अच्छे से धोये

हमे खाना खाने से पहले या फिर शोचालय जाने के बाद अपने हाथो को जरूर अच्छे से धोना चाहिए जिससे हमारे पेट में किसी भी प्रकार के रोगाणुओ को फेलने से रोकने में मदद मिलती है। ये रोगाणुओ से हमे दस्त,मतली,बुखार या पेट दर्द देते है जिससे हम बीमार पड़ने लगते है।

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

#६. तनाव से दूर रहे

कुछ लोग को तनाव के कारण कई बीमारियो का शिकार होना पड़ता है जैसे कि तनाव के करा दिल कि धड़कन तेज होती है जिससे उन्हे पेट में दर्द होता है। इसलिए तनाव से बचे जिसके लिए आपको व्यायाम,मेडिटेसन आदि चीजे कर सकते है।

#७. अपने डॉक्टर से सलाह ले

किसी व्यक्ति को किसी चीज से या दूध से पेट में ऐंठन होती है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले। क्योंकि ऐसा भी होता है आपको किसी चीज से अललेरजी हो जो आपको पता न चले। जिसकी वजह से आपको पेट में दर्द होता हो।

कुछ और अच्छी आदते जिससे आप अपने पेट दर्द का बचाव कर सकते है जैसे कि

  • खाना खाने के बीच में हमे बार बार पानी नहीं पीना चाहिए।
  • खाना खाने के बाद प्यास के अनुसार थोड़ा पानी पिये और उसके ४५ मिनट बाद पानी अच्छे से पीनी चाहिए
  • कच्चे रोटी या भोजन का सेवन न करे
  • अगर पाचन तंत्र कमजोर है तो तेल कि मालिश करवाए
  • भोजन के बाद थोड़ा वॉक करना चाहिए
  • खाना बनाए के समय साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए
  • बासी भोजन करने से बचे
  • देर तक सब्जी कटी हुई को बनाए से बचे
  • खाना खाने में अच्छे आते का प्रयोग करे

ये तो होगाए इससे बचने के उपाय। अब आए जाने कुछ घरेलू उपाय जिससे आप अपने पेट दर्द को चुटकियों में गायब कर सके।

पेट दर्द के इलाज के लिए घरेलू उपाय इन हिन्दी (Gharelu upay for stomach pain ya pet dard in hindi)

#१. कालीमिर्च,अजवाइन एवं हिंग

पेट दर्द से निजात पाने के लिए १ चुटकी हिंग और २ चुटकी कालीमिर्च में थोड़ी अजवाइन को मिलकर चूर्ण बनाकर शहद के साथ लेने से पेट के दर्द में बहुत आराम मिलता है।

#२. चीनी,अजवाइन और नमक

आधा चम्मच अजवाइन,थोड़ी नमक और थोड़ी चीनी को मिलकर एक ग्लास पानी में मिलाकर एक नींबू का रस मिलाकर पीने से पेट दर्द तुरंत ठीक हो जाता है।

#३. मदार से पेट दर्द का इलाज

पेट दर्द के इलाज के लिए मदर का पत्ता भी बहुत फायदेमंद होता है। जहा दर्द हो वह मदार के पत्ते में घी लगा कर गरम करके सेखने से काफी फाइदा मिलता है। इससे आप चूर्ण कि तरह भी इसतमाल कर सकते है मदार के चाल को सुखाकर पीस कर सौंफ समान मात्र में मिलाकर २ से ३ बार लेने से पेट दर्द में आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें:हार्ट अटैक के लक्षण एवं हार्ट अटैक से बचने के उपाय इन हिन्दी ( Heart attack ke karan aur upay in hindi)

#४. पाषाण भेद

पाषाण भेद पत्र स्वरस कि ५-६ बूंद में शक्कर या मिश्री मिलाकर सेवन करने से पेट दर्द में तुरंत जल्द ही आराम मिलता है। यह उपाय बच्चो के पेट दर्द के तुरंत उपचार के लिए बहुत उपयोगी है।

#५. अजवाइन

अजवाइन पेट के रोगो के लिए बहुत असरकारी होता है। इसका पेट के रोगो के लिए कई तरह से उपयोग किया जाता है। अजवाइन का चूर्ण खाकर ऊपर से गरम पानी पीने से पेट में दर्द दूर होता है।

#६. पुष्कर मूल चूर्ण

पुष्कर मूल के चूर्ण में आधा भाग सेंधा नमक और १/४ भाग भुनी हिंग को मिलाकर सेवन करने से पेट दर्द दूर होता है।

#७. इमली

इमली कि छाल को जला कर चूर्ण बना ले। फिर इसके चूर्ण को गरम पानी के साथ लेने से पेट के दर्द में तुरंत राहत मिलेगी।

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

#८. नीम कि छाल

२० ग्राम नीम कि छाल को पानी में उबाले जब पानी आधा हो जाए तो थोड़ी हिंग और १० ग्राम शुद्ध देसी शराब मिलाकर रोगी को पीला दे राहत मिलेगी।

#९. गौ का दूध और साफ पानी

गाय का दूध और साफ पानी दोनों समान मात्रा में ले और लालमिर्च साबूत लेकर सभी को धीमी आंच पर पकाए। जब ये आधा हो जाए तो इसमे चीनी मिलाकर छानकर रोगी को पिलाने से बहुत अधिक पेट दर्द वाले रोगी को आराम मिल जाता है।

#१०. खरबूजे कि जड़

खरबूजे के जड़ और काली मिर्च को थोड़ा थोड़ा मिलाकर १ कप पानी के साथ पीने से पेट दर्द में काफी आराम मिलता है। ये दर्द ५ से ७ मिनट के बाद कम होने लगता है और धीरे धीरे दर्द केएचटीएम हो जाती है।

#११. ग्वारपाठे के पत्ते एवं गुददे

ग्वारपाठे के पत्ते हटा कर गुददे में चीनी मिलाकर रोगी को पिलाने से पेट दर्द में काफी आराम मिल जाता है देखते ही देखते दर्द बिलकुल खत्म हो जाते है।

इसे भी पढ़ें:19 हैल्थ टिप्स फॉर वुमेन – Health Tips for Women & Girls in Hindi

#१२. अदरक कि चाय

एक कप पानी में थोड़ा अदरक और एक नींबू डालकर उबाल ले। इसके बाद इसमे थोड़ा शहद अपने स्वादानुसार दल कर छान ले,जिससे आपके पेट दर्द में फाइदा मिलेगा और अगर आपका पाचन तंत्र कमजोर है तो ये चाय आपके लिए सेर्व्श्रेस्थ है।

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

#१३. सौंफ का उपयोग

१ चम्मच सौंफ को आधा ग्लास पानी में १० से १२ मिनट तक उबाले। इसके बाद ईसमे थोड़ा शहद मिलाकर छन कर पिलाने से पेट दर्द में काफी आराम मिलता है। ये उपाय दिन में ३ बार करे जरूर आराम मिलेगा।और जब भी आप खाना खाये सौंफ का थोड़ा सेवन जरूर करे।

#१४. हींग

हींग पेट दर्द के लिए सबसे आसान उपाय है, बस एक चुटकी को को एक ग्लास पनि में मिला ले और थोड़ा नमक और पेट दर्द के रोगी को पीला दे तुरंत आराम मिलेगा। इस उपाय को २ से ३ बार दिन में करे लाभ होगा।

#१५. बेकिंग सोडा

एक ग्लास पानी में में एक नींबू और एक चम्मच बेकिंग सोडा और थोड़ा नमक मिलाकर दिन में तीन बार रोगी को पिलाये पेट दर्द में आराम जरूर मिलेगा।पर ध्यान रखे हाइ बीपी वाले मरीज इसका उपयोग न करे।

Causes and Gharelu Upay For Stomach Pain And Gas In Hindi

#१६. चावल का पानी

चावल के पानी को बनाने के लिए १/२ कप चावल ले और उसमे पानी डाले और उबाले, जब चावल नरम होजाए तो पानी को छान ले और इस पानी में आधा चम्मच शहद मिलाकर पेट दर्द के रोगी को पिलाये आराम मिलेगा।

पेट दर्द होने पर परहेज (Pet dard mein kis chij se parhej kare in hindi)

पेट दर्द होने पर हमे कई छीजो से परहेज करना पड़ता है जैसे कि

#१. दूध

कई लोगो को दूध या कोई भी डेयरी उत्पादो से अललेरजी होती है उन्हे नहीं पछता जिसकी वजह से रोगी को पेट में गॅस बनकर काफी दर्द होता है। डेयरी प्रॉडक्ट या क्रीम या फिर मीट जैसे खाद पढ़ार्थों में फट कि मात्र अधिक होती है जो पेट दर्द में परेशान करता है।स्लिए जरूरी है हम इन चिंजों से बचे।

#२. एसिड के उंच मात्रा वाले खाद पढ़ार्थ

खटी चीजे जैसे कि टमाटर से बने पढ़ार्थ जो साइटरस उत्पादो से एसिड रिफ्लैक्ट करता है उनसे दूर रहे।

#३. शराब

शराब पीने से आपको गॅस हो सकती है ईसलिए जरूरी है कि आप शराब के सेवन से बचे तभी आपको पेट दर्द से छुटकारा मिल सकता है।

#४. प्रोसेस्ड फूड

आपको प्रोसेस्ड फूड से बचने कि जरूरत है क्योकि ये प्रॉडक्ट कई प्रकार रसायन और प्रिसर्वेटिव्स से युक्त होते है जो पेट कि समस्या को बढ़ते है।

#५. चॉक्लेट या कफ़्फ़ेने

Ye खाने से बचे क्यू कि इससे भी रोगी को पेर्ट दर्द अधिक हो सकता है। और आजकल इतने प्रदार्थों मेनिटने छीजे मिले होते है हमारे डॉक्टर भी ये सब दूर करने कि सलाह देते है।

इसे भी पढ़ें: २० हैल्थ टिप्स फॉर मेन (Health Tips for Men Body in Hindi)

पेट दर्द में क्या खाना चाहिए इन हिन्दी (What should we eat during stomach pain in hindi)

  • केला पेट दर्द में काफी फायदेमंद होता है क्योकि इसमे पोटेशियम होता है जिससे उल्टी और दस्त में आराम मिलता है। और पेट दर्द होने कि संभावना काम हो जाती है।
  • चावल आलू और अन्य स्टार्च युक्त खाध पढ़ार्थ पाचन को आसान बनाते है और पेट को आराम देता है।
  • सूप आपको डिहायड्राटेड करने में मदद करती है।
  • पपीता खाने से पाचन शक्ति अच्छी होती है और कब्जियत से छुटकारा मिलता है।
  • अदरक उल्टी और पाचन शक्ति को सुधारने में काम आता है
  • हेबल चाय का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करे।
  • नारियल पानी आपके पेट को ठंडा रखने में मदद करती है और ये गरमियो के दिनो के लिए बहुत ही अच्छा होता है।

अगर आपको इन सब के बाद भी पेट में दर्द हो या फिर नीचे दिये गए लक्षण में से कोई भी परेशानी हो तो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करे।

१) तेज दर्द अधिक दिन से रहना
२) मतली और बार बार बुखार आना
३) मल में खून आना
४) पेशाब करते टीम दर्द होन।
५)दर्द होने से पहले कही चोट का लगना
६)पेट में जलन होते रहना और कोई उपाय काम न करना

ये सब उपाय अपनाए और अपने पेट दर्द को करे छूमंतर और स्वस्थ रहे। इनके बावझूड भी अगर पेट में दर्द हो डॉक्टर से सलाह ले और दवाइयो का सेवन अच्छे से करे।

इसे भी पढ़ें:थायराइड के लक्षण,कारण एवं थायराइड के इलाज का घरेलू उपाय इन हिन्दी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here