रागी (ragi) हमारे जीवन में बहुत ही लाभदायक पोषक तत्व है यह देखने मे बिलकुल सरसों जैसा लगता है।इसको अँग्रेजी मे finger millets और भारत में नाचनी बोला जाता है। रागी अपने अमीनो एसिड मिथियोनाइन के लिए महत्तपूर्ण माना जाता है जो अक्सर स्टार्च से भरपूर खाने पर निर्भर करते है जैसे कसाव ,कच्चे केले ,पोलिश किए हुए चावल और मकई ।प्रोटीन ,केल्सिउम,रेसांक और लोहा से भरपूर रागी का प्रयोग विश्व-भर मे विभिन्न खाध प्रदार्थ में किया जाता है।

Contents

क्या होता हैं रागी (What is Ragi – Finger millet in Hindi)

रागी का ऊपरी परत पचाया नहीं  जा सकता और इसलिए इस अनाज का प्रयोग करने से पहले इसके धोना चाहिए और छिलके को निकालना आवश्यक होता है। इस प्रक्रिया को करने के बाद इसे अंकुरित किया जाता है और ये खराब नहीं होता। इसलिए इसकी पोषटिकता बनी रहती है। इस अनाज का प्रयोग आप छीलकर या आटे में पीसकर या माल्ट बनाकर किया जा सकता है।

इसका प्रयोग हम  बहुत से तरह के स्वादिसट मिटाई या बच्चो के porridge या फिर कई प्रकार के नाश्ते में प्रयोग केआर सकते है।रागी बाजार में मिललेट के रूप में या आटे के रूप में आसानी से मिल जाता है नहीं तो आप इंटरनेट(ऑनलाइन शॉपिंग) से भी मँगवा सकते है। रागी जब भी खरीदे नया और ताज़ा देखकर।जब भी खरीदे तो उसमे जरूर देखे की उसमे नमी न हो।

रागी के फायदे

जैसा की आप सभी किच्चन के रासन को एयर टाइट डब्बे में तो रखती ही होगी वैसे ही आप रागी को भी स्टोर करके रखे। इसे ठंडी और सुखी जगह पर रखे जिससे ये खराब नहीं होगी।

रागी तो पोस्टिक्ता से भरा शानदार अनाज तो है साथ ही इसमे 6.7 प्रतिशत उच्च गुणो वाला प्रोटीन भी होता है। इसका प्रयोग परम्पिक रूप से शिशु के लिए खाने के रूप में किया जाता है पोररिज बनाने मे आसान होता है और अगर आपका बच्चा इसे पचा सके तो ,थोड़े पहले से भीगे हुए सूखे मेवे के साथ मिला कर इसकी पोष्टिकता बढ़ाई जा सकती है।

बहुत कम लोग खास कर भारतीय इसके स्वास्थ्य लाभ और पोषण संबंधी मूल्य के बारे मे जानते है। अगर आप रागी को अपने आहार मे शामिल करे तो आपको बहुत लाभ होगा ।

रागी का सेवन या उपयोग करने के तरीके (How to consume Ragi in Hindi) 

रागी से हम कई प्रकार स्वादिष्ट पकवान भी बना सकते है , जैसे :-

१)रागी और चावल को बराबर मात्रा में मिलाकर आप स्वादिष्ट और पोस्टिक रागी डोसा या इडली या उप्मा बना सकते है।

२)रागी नन्हें शिशु और छोटे बच्चो के खाने के लिए मशहूर है । बच्चों के लिए रागी पोररिज बनाने के लिए जरूरत मात्रा में रागी को पानी में भिगोकर पीस ले । रागी के दूध को छानकर थोड़े से घी ,नमक या दूध में पका ले गाढ़ा होने तक पका ले

३)भुने हुए रागी को पीसी हुई चीनी ,ईलाईची और घी के साथ मिलकर हम रागी के लडू भी बना सकते है।

४)रागी का रंग पकाने के बाद गहरा भूरा हो जाता है और बच्चो को शायद पसंद न आए इसलिए रागी को अन्य अनाज के साथ मिला कर इस पोष्टिक खाने को उनके आहार मे मिला सकते है।

५)रागी के आटे के पेस्ट को दूध में और अपनी पसंद के फल,सूखे मेवे और नट्स से मिलाकर एक आसान सा पोररिज बनाया जा सकता है।

६)पिसे हुए रागी को ब्रैड और मुफ़्फ़िंस व्यंजन मे मिलाया जा सकता है।

७)रागी का हलवा और स्वादिस्ट नमकेन भी हम बना सकते है।     

आये चलिये जानते है रागी के फायदे एवं उपयोग जिससे हम जान सके की इसके कितने  फायदे है और कितने नुकसान।

रागी के फायदे

रागी के फायदे ( Ragi Ke fayde in hindi )

1)हड्डी के विकास के लिए रागी का उपयोग (Ragi good for strong bones)

आप तो जानते ही होगे की हड्डी मजबूत के लिए हमे केल्शियम की कितनी जरूरत है,रागी में अन्य अनाज के मुक़ाबले ज्यादा केल्सियम होता है। ओस्टियोपोरोसिस को रोखने एवं हड्डी के विकास के मामलो में केल्सियम एक मह्त्त्पूर्ण कारक है। calcium की गोली लेने की बजाय बढ़ते बच्चो के आहार में रागी देना इसके लाभ उठाणे का एक अच्छा तरीका है।

2)फ़ाइबर में उच्च रागी (Ragi is high in fibre)

सफ़ेद चावल के तुलना मे रागी मे उच्च मात्रा में फ़ाइबर होता है। इससे रागी पाचन मे सहायता करता है,ज्यादा खाने से बचाता है।और आपको काफी समय तक पूर्ण महसूस कराता है।एमिनो एसिड लेसिथिन और मेथीयोनीन लिवर मे से अतिरिख्त फेट से छुटकारा दिलाकर आपके शरीर के कोलेस्ट्रॉल के स्तर केओ कम करने मे मदद करते है।

3) मधुमेह मे लाभ रागी से (Ragi good for diabetes)

आज ज्यादातर लोग डायबिटीज से पीड़ित है रागी में मौजूद पदार्थ हमारे शरीर में शुगर लेवल को नियंत्रित रखते है और डायबिटीज के मरीज़ को ज्यादा परेशानी नही होने देते। इसका सेवन करने से आपका शुगर लेवल कंट्रोल रहेगा और आप स्वस्थ रहेंगे।नियमित रूप से जिन आहार में रागी शामिल होता है वह कम ग्लाइसेमिक प्रतिक्रीया के लिए जाने जाते है। इसे आपके सुबह के भोजन मे शामिल करने या दोपहर के भोजन मे लेना सबसे अच्छा है ताकि पूरे दिन आपके सिस्टम को ट्रक पर रखा जा सके।

4)रागी से बनी चिजे अनेमिया के लिए फायदेमंद(Ragi for anemia)

रागी प्रकृतिक आइरन का स्त्रोत है। अनेमिया एवं हैमोग्लोबिन स्तर से पीड़ित रोगी अपने खाने में रागी को शामिल करना शुरू कर सकते है। जिससे हमारे बॉडी  में जो भी खून की कमी हो जाती उसे ठीक केआर सके।

5)लस मुख्त होता है रागी (Ragi is gluten free)

सिलिएक रोग वाले लोग या लस मुक्त आहार लेने वाले लोग रागी को अपनी दैनिक खपत मे शामिल कर सकते है क्यूकी यह लस मुख्त होता है।ज़्यादातर अनाजों के साथ ऐसा नहीं होता क्यूकी लस सभी अनाजों में एक प्रमुख पोषक तत्व है।

6)रागी का पोररिज शिशु के लिए उपयोगी (Ragi porridge for babies)

दक्षिणी भारत मे,जहा रागी का व्यापक रूप से उपयोग होता है,28 दिनो के जन्मे बच्चे को उनके नामकरण के दिन रागी का दलिया खिलाया जाता है।वहा ऐसा माना जाता है की रागी बेहतर पाचन को बढ़ावा देता है।इसमे मौजूद उच्च केल्सिउम और आइरन सामाग्री हड्डी विकास और शिशु के समघ विकास के लिए उपयोगी है। शिशुओ को माँ का दूध छुड़ाकर कुछ खिलाने की प्रक्रिया के दौरान विशेस रूप से संसाधित रागी पाउडर व्यापक रूप से उपलब्ध कराये जाते है।

7)स्तनपान कराने वाली महिलाओ के रागी के फायदे (Ragi for nursing mothers)

जो महिला अपने बच्चे को अपना दूध पिलाती है उन्हे अपने आहार में रागी को शामिल करना चाहिए विशेस कर जब यह हरा होता है क्यूकी यह माँ का दुध को बढ़ाता है और दूध को आवश्यक एमिनो एसिड,लोहा और केल्सिउम प्रदान करता है जो माँ और बच्चे के पोषण के लिये आवस्यक है।  

रागी के फायदे

8)त्वचा को रखते है जवा, रागी (Ragi for good skin)

त्वचा को युवा बनाए रखने के लिए रागी अधभूत है। इसमे मेथीयोनीन और लाइसिन जैसे महतपूर्ण अमीनो एसिड होने के कारण इसे लेने से त्वचा के ऊतको में कम झुरियों की संभावना होती है।रागी विटामिन डी के कुछ बहुत ही प्रकृतिक स्त्रोतों मे से एक है।  

9)मस्तिष्क के लिए रागी का उपयोग (Ragi good for brain)

रागी मे अमीनो एसिड और एंटीओक्सीडेंट  की पर्याप्त मात्रा में बॉडी को स्वभाभिक रूप से आराम देने में मदद करती है। सामान्य बीमारी जैसे चिंता ,अनिन्द्र,सिरदर्द का हल रागी से किया जा सकता है।

10)उच्च रक्तचाप पे कंट्रोल (Ragi for high bloodpressure)

ब्लड प्रेशर की समस्या आजकल सभी में बहुत आम हो गई है। रागी से बानी रोटी का सेवन करने से हमारा रक्तचाप नियंत्रित रहता है और आपको कोई परेशानी नही होती। इसका रोजाना सेवन समय पर करे आप चाहे तो इसके साथ निम्बू पानी भी पिए इससे भी आपका रक्चचाप सही रहेगा। रागी में बहुत से तत्व ऐसे होते है जो हमारे रक्तचाप को आसानी से कंट्रोल कर लेते है तो यह हमारे लिए फायदेमंद है।

रागी के फायदे

11) वजन कम करने में रागी के फायदे (Ragi for weight loss)

आजकल सभी लोग मोटापे से बहुत परेशान है। तरह तरह की दवाइया और एक्सरसाइजेज करते है ताकि मोटापा कम हो जाए पर सही मायनो में वो फेल हो रहे है। रागी में एमीनो एसिड और ट्रायटोफन होता है जो हमारे शरीर पर जमे हुए एक्स्ट्रा फैट को हटाने में मदद करता है। इसीलिए रागी के इस्तेमाल से आप मोटापे से भी छुटकारा पा सकते है।और एसमे फ़ाइबर के गुण होते जिससे हमे कम भूक लगती है जिससे हमे कम खाना के मन करता है। इसके गुणो का लाभ उठाने के लिए हमे इसे सुबह नाश्ते में लेना सबसे अच्छा है ताकि हमारा पेट पूरा दिन भर भरा रहे।

ये तो होगाए रागी के फायदे लेकिन कुछ चिजे ऐसे जरूर होते है जो किसी व्यक्ति को नुकसान भी कर सकता है।

रागी के नुकसान ( Ragi ke nuksan side effects in Hindi) 

हालांकि,रागी हमारे लिए बहुत फायदेमंद है पर रागी की उच्च खपत से बचा जाना चाहिए क्योकि ये शरीर में ओक्सेलीक एसिड की मात्रा मे वृद्धि कर सकता है ।इसलिए गुर्दे की पथरी और यूरिनरी कैलकुली वाले रोगियों को इसे लेने की सलाह नहीं दी जाती।

इसमें मौजूद फाइबर और सीरियल एसिड्स हमारे शरीर की पाचन शक्ति को एकदम स्वस्थ और चुस्त रखते है। रागी का रोजाना इस्तेमाल करने से आपको कभी भी कब्ज की परेशानी नही होगी और आपकी पाचन क्रिया समय पर चलती रहेगी।

ऊपर दिए गए सभी रागी के हेल्थ बेनिफिट्स है। यह सब आपकी अपनी हेल्थ का ध्यान रखने में मदद करेंगी साथ की आपको रोज की बीमारियों से भी दूर रखेंगे। रागी हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद है या यू कहे की हमारे लिए कुदरत का एक वरदान है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here